Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.
Showing posts with label भाजपा. Show all posts
Showing posts with label भाजपा. Show all posts

Sunday, February 23, 2014

चीन को चेतावनी, देश को टूटने नहीं दूंगा,

चीन को चेतावनी, देश को टूटने नहीं दूंगा,अरुणाचल के कबीले से जुड़े मोदी 

पासीघाट (अरुणाचल), 22 फर (हि.स.)। भाजपा के प्रधानमंत्री पद के घोषित प्रत्याशी व गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शनिवार को पूर्वोत्तर में अपनी तीसरी चुनावी सभा को अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट में संबोधित करते हुए प्रथम बार जहां चीन को चेतावनी दी, वहीँ कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा।  

विदेश नीति के मुद्दे पर अपना पक्ष दोहराते हुए, भाजपा के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेन्द्र मोदी ने, आज चीन से अपनी ‘विस्तारवादी मानसिकता’ को छोड़ने को कहा, साथ ही यह स्पष्ट किया, कि विश्व की कोई शक्ति भारत से अरुणाचल प्रदेश को नहीं छीन सकती। चीन को अपनी विस्तारवादी नीति को छोड़ने की चेतावनी देते हुए मोदी ने, चुनाव प्रचार के मध्य यहां एक सभा में कहा, ‘‘अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न अंग है और सदा बना रहेगा। अरुणाचल प्रदेश के लोगों को चीन के दबाव या भय में नहीं आना चाहिए।’’ 

सियांग नदी के पास आयोजित सभा को संबोधित करते उन्होंने कहा, ‘‘दोनों देशों की शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देना चाहिए।’’ मोदी ने कहा, "मैं इस मिट्टी की शपथ लेता हूं, कि मैं राज्य को न तो समाप्त होने दूंगा और न ही टूटने या झुकने दूंगा।’’

मोदी ने यहां विजय संकल्प अभियान रैली को संबोधित करते हुए कहा, "इस कबीले और मेरे पूर्वजों में अवश्य कोई संबंध रहा होगा क्योंकि हमारे उपनाम एक समान हैं।’’ उन्होंने कहा, "आदि जनजाति के मोदी कबीले की जनसँख्या प्राय: 7000 है और इनका गुजरात के मोदियों से अवश्य कोई संबंध होगा। यदि कोई इतिहास में जाए, तब यह स्थापित किया जा सकता है।’’ इस पर मोदी कबीले के आदि जनजाति के सदस्यों को आज गर्व का अनुभव हो रहा होगा। उन्होंने कहा, "द्वारका (गुजरात) के भगवान कृष्ण ने अरुणाचल की रूक्मिणी से विवाह कया था। इस तरह से गुजरात और अरुणाचल का 5000 वर्ष पुराना नाता है।’’ मोदी ने कहा कि अरुणाचल में सबसे पहले सूर्य उगता है और गुजरात में सबसे अंत में अस्त होता है। अब सूर्य उदय से अस्त तक रहेगा, मोदी के देश का। 

जब नकारात्मक बिकाऊ मीडिया जनता को भ्रमित करे, तब पायें 

नकारात्मक बिकाऊ मीडिया का सकारात्मक राष्ट्रवादी व्यापक सार्थक विकल्प, 
युगदर्पण मीडिया समूह YDMS.
यदि आप भी मुझसे जुड़ना चाहते हैं, तो आपका हार्दिक स्वागत है, संपर्क करें औऱ अपने सम्पर्क सूत्र सहित बताएं, कि आप किस प्रकार व किस स्तर पर कार्य करना चाहते हैं, तथा कितना समय देना चाहते हैं ? आपका आभार अग्रेषित है।

Yug Darpan Media Samooh YDMS যুগদর্পণ, યુગદર્પણ  ਯੁਗਦਰ੍ਪਣ, யுகதர்பண  യുഗദര്പണ  యుగదర్పణ  ಯುಗದರ್ಪಣ,

http://aajkimahaabhaaratdarpan.blogspot.in/2014/02/blog-post_23.html
Media For Nation First & last. राष्ट्र प्रथम से अंतिम, आधारित मीडिया YDMS
नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प
-युगदर्पण मीडिया समूह YDMS- तिलक संपादक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक

Wednesday, October 2, 2013

नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में हुंकार

Monday, September 30, 2013

 नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में हुंकार

नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में हुंकारजानिए क्‍या खास रहा नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में, नरेंद्र मोदी एक ओर दिल्ली के नेता दूसरी ओर नितिन गडकरी व सिद्धू आदि 

नई दिल्‍ली। भाजपा के प्रधानमंत्री प्रत्याशी नरेंद्र मोदी ने दिल्‍ली में एक भारी जनसभा को संबोधित किया, जिसमें अधिकतर लोग युवा वर्ग से थे। इस रैली में मोदी का भाषण सुनने के बाद कांग्रेस के कई नेता हलकान हैं। किसी की बोलती नहीं निकल रही है। मोदी ने अपने डेढ़ घंटे के भाषण में क्‍या कहा, उसके मुख्‍य बिंदु हम आपके लिये लेकर आये हैं। दिल्‍ली में भाजपा के पास विजय ही विजय हैं। विजय मल्‍होत्रा, विजय गोयल, आदि।  दिल्‍ली में कई सरकारें चल रही हैं, कहीं मां की सरकार तो कहीं बेटे की सरकार। साझा सरकार गणित से बनती है, किन्तु चलती केमिस्‍ट्री से है। कांग्रेसी दल पास-पास तो हैं, किन्तु साथ-साथ कतई नहीं हैं। अफसोस होता है कि हमारे प्रमं सरदार हैं, किन्तु असरदार नहीं हैं। 

दिल्‍ली की मुमं का कार्य सबसे सरल है। वो मात्र रिबन काटती फिरती हैं। कुछ बड़ा हुआ तो जिम्‍मेदारी केंद्र की, छोटा हुआ तो नगर निगम की। कॉमनवेल्‍थ घोटाला करके कांग्रेसियों ने देश का आत्मसम्मान लूटा है। उसने खेलों के आयोजनों में हमारे आने वाले भविष्‍य को छीन लिया है। सुप्रीम कोर्ट लगातार कांग्रेसियों के विरुद्ध निर्णय सुना रहा है, किन्तु ये लोग शराबी की तरह नशे में चूर हैं। संप्रग इस समय गांधी भक्ति में व्‍यस्‍त है। नोटों पर छपे गांधीजी की पूजा कर रही है। 

आज का युवा नौकरी चाहता है। राजग ने 6 करोड़ लोगों को रोजगार दिया था, जबकि संप्रग ने मात्र 27 को रोजगार दिया है। प्रधानमंत्री ओबामा के सामने अपने देश की गरीबी की 'मार्केटिंग' कर रहे हैं। उन्‍हें शर्म आनी चाहिये। प्रमं उसी फिल्‍म निर्माता की तरह काम कर रहे हैं, जो भारत की गरीबी पर फिल्‍म बनाता है और विदेशों में बेच कर अवार्ड ले आता है। देश जानना चाहता है कि नवाज शरीफ से आज हमारे प्रमं क्‍या कहेंगे। 

नवाज शरीफ आपकी औकात क्‍या है। आपने हमारे प्रमं को देहाती औरत कैसे बोला। हम घर के अंदर चाहे जितना लड़ें, किन्तु बाहर वाला हमारे ऊपर उंगली उठाये, यह हम सहन नहीं करेंगे। क्‍या प्रमं नवाज शरीफ से सैनिकों के कटे हुए सिर ला पायेंगे। यदि प्रमं के सम्मान का फलूदा बन रहा है तो वो मात्र कांग्रेस के उपाध्‍यक्ष के कारण से। उन्‍होंने ही प्रमं की पगड़ी उछाली है। देश को अब 'डर्टी टीम' नहीं, 'ड्रीम टीम' की आवश्यकता है। संप्रग सरकार के पास कोई 'विजन' नहीं है। आप कोई भी बजट या योजना उठाकर देख लीजिये। 

मोदी को वर्षों से दो अंकों में गुजरात के आर्थिक विकास के साथ भाग्य बदलने का श्रेय दिया जाता है उसके गर्मजोशी से दिये भाषण सुनने के लिए उमड़े जन सैलाब में, उन लोगों ने मोदी का उत्साह पूर्वक स्वागत किया । कार्य क्रम में उपस्थित जनसमूह का एक बड़ा भाग उस वर्ग से था, जिसे सामान्यत भाजपा से काट कर देखा जाता है, अर्थात मुस्लिम व समाज के दलित  तथा युवा वर्ग तो दिविवि चुनाव में अभाविप के साथ खड़ा हो कर पहले ही प्रमाण दे चुका है। स्पष्टत:   कांग्रेस सभी वर्गों का विश्वास खो चुकी है तथा अब शीघ्र ही, दिग्विजय की श्रेणी के, कभी भी कुछ भी बक देने वाले वक्ता /प्रवक्ता हर ओर, हर बात के अर्थ का कुअर्थ बना कर देश का अनर्थ करने, सनसनी चेनलों व मीडिया में कूदते मिलेंगे। किन्तु नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक, व्यापक, विकल्प युग दर्पण मीडिया समूह, YDMS के पाठक जानते हैं, कि हमारे यहाँ ऐसी बकवास के लिए कभी कोई स्थान नहीं रहा है। क्योंकि हम किसी व्यक्ति, समूह या सत्ता के प्रति नहीं; राष्ट्र, समाज व सत्य के प्रति समर्पित हैं।  

सम्बद्ध समाचार ** नरेन्द्र मोदी की भाजपा के 'प्रधानमंत्री प्रत्याशी' के रूप में घोषणा होने के बाद उन्होंने चुनाव प्रचार कमेटी का अध्यक्ष पद त्याग  दिया है। मोदी के पद छोड़ने के बाद पार्टी के संसदीय बोर्ड ने राजनाथ सिंह को चुनाव प्रचार अभियान समिति की कमान सौंप दी।    

दिल्ली में मोदी की रैली को 20,000 मुसलमानों का समर्थन!. 

** अमेरिकी इंटेलीजेंस एजेंसियां कई बर्षो से मोदी के बारे में ब्यापक सूचनाए इक्कट्ठा कर रही है .. और उनके आकड़े तथा तथ्य हमेशा जमीनी हकीकत पर आधारित होते है .. अभी हाल की दिल्ली रैली के दौरान अमेरिकी इंटेलीजेंस बिभाग के बहुत से एजेंट पत्रकारों के भेष में मोदी की सभा का आकलन और प्रभाव का विश्लेषण करने आये थे   

India’s opposition Bharatiya Janata party (BJP) leader Narendra Modi waves to supporters as he arrives to address a public rally in New Delhi, India, Sunday, Sept. 29, 2013.  अजय माकन ने कहा है कि नरेंद्र मोदी ने एक पाकिस्‍तान के जर्नलिस्‍ट की झूठी खबर पर प्रतिक्रिया देकर देश के पीएम पद का अपमान किया है।                            ** ढ़ाई करोड़ लोगों को मोबाईल देकर संप्रग 2014 के लोकसभा चुनाव में क्‍या लाभ पा सकेगी, फिलहाल घोटाले और अक्षम  प्रशासन के कारण सरकार प्रश्नों के घेरे में है।  अपनी चुनावी रैली के मध्य हर जगह मनरेगा का जाप करने वाले राहुल गांधी ने एक बार फिर इसी योजना द्वारा सत्‍ता में वापसी का सपना सजा रखा है किन्तु इसका  उद्देश्य लोगों को रोजगार देना नहीं, बल्कि ढाई करोड़ लोगों को इंटरनेट उपयोग किये जाने में सक्षम मोबाइल दे वोट लेना है। इस योजना के अंतर्गत मनरेगा में पंजीकृत प्रत्‍येक परिवार के एक सदस्‍य को मोबाइल दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त दो वर्ष तक प्रति माह 30 रूपये का 'मुफ्त रिचार्ज' भी दिया जाएगा। जिस पर उपभोक्‍ता को प्रति माह तीस मिनट तक बात करने, 30 एसएमएस और 30 एमबीपीएस तक इंटरनेट उपयोग करने की सुविधा दी जाएगी।    कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी सोनिया गांधी के एक करीबी से नाराज हैं। कांग्रेस दो गुटों में बंट या है। एक गुट जो राहुल गांधी की टीम में है, जबकि दूसरी टीम सोनिया गांधी की है। बताया जा रहा है कि जब दागी नेताओं पर इस अध्यादेश को लाने के प्रयास चल रहे थे तभी राहुल कैंप के माने जाने वाले नेताओं ने इसके विरुद्ध बयान देना शुरू कर दिया था। संप्रग सरकार ने दागी नेताओं को राहत दी, किन्तु अब इस निर्णय के विरुद्ध कांग्रेस में ही गुटबाजी शुरु हो गई है। इस अध्यादेश को बकवास करार देते हुए राहुल गांधी ने उस प्रेस कान्फ्रेंस में खलबली मचा दी जिसे अध्यादेश के महिमामंडन के लिए ही रखा गया था। यह एक ऐसा फैमिली ड्रामा था, जिसे लेकर कांग्रेस में हैरानी थी, तो विरोधियों को हँसी आ रही थी। 

दागियों पर अध्यादेश के विरुद्ध राहुल का जलापा, प्रत्यक्ष रूप से उनकी अपरिपक्वता की ही निशानी था। केन्द्र में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार हो, मंत्रीमंडल उस अध्यादेश को स्वीकृति दे और ठेठ राष्ट्रपति तक अध्यादेश पहुँच जाए, तब तक राहुल अनजान रहें...यह आश्चर्यजनक नहीं, परंतु हास्यास्पद व नाटक ही लगता  है। मोदी की दिल्ली रैली से ठीक 48 घण्टे पहले राहुल द्वारा की गई इस ‘बकवास' ने सीधे-सीधे मोदी को एक मुद्दा दे दिया है।

दिल्ली में दहाड़ के बाद आज मुंबई में मोदी करेंगे हीरा कारोबारियों से मुलाकातमुंबई। देश की राजधानी दिल्ली में मोदी की विशाल रैली के सफल होने के बाद अब उनका अगला पड़ाव मायानगरी मुंबई है। दिल्ली में गर्जना के बाद आज भाजपा के प्रमं प्रत्याशी नरेंद्र मोदी मुंबई में हीरा व्यापारियों को संबोधित करेंगे। मोदी की ये रैली गैर राजनीति है। भाजपा के प्रमं प्रत्याशी बनने के बाद ये मोदी की पहली मुंबई यात्रा होगी। मोदी यहां डायमंड मर्चेट एसोसिएशन के डायमंड हाल का उदघाटन करेंगे। वास्तव में भाजपा समर्थको का तर्क है कि यदि मोदी को मिशन 2014 सफल करना है तो उन्हें आम आदमी से लेकर, कारपोरेट और राजनीतिक समर्थन प्राप्त करना होगा। पार्टी का मानना है कि मुंबई के इस गैर राजनीतिक कार्यक्रम से हिंदुत्व और विकास के एजेंडे को एक साथ लाने में सहायता मिलेगी जो भाजपा के मिशन 2014 के लिए आवश्यक है। विशेषबात ये भी है कि मोदी सदा से सभी वर्गों को साथ लेकर चलने में विश्वास रखते है। ऐसे में उन्हें आम लोगों के साथ-साथ व्यापारिक जगत को लेकर भी साथ चलना है। दिल्ली में दहाड़ के बाद मुंबई में मोदी हीरा व्यापारियों से भेंट करेंगे 

दूषित राजनीति के बिकाऊ नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प 
Join YDMS ;qxniZ.k सन 2001 से हिंदी साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्र, पंजी सं RNI DelHin 11786/2001 
विशेष प्रस्तुति विविध विषयों के 28+1 ब्लाग, 5 चैनल व अन्य सूत्र,की 60 से अधिक देशों में  एक वैश्विक पहचान है। पत्रकारिता व्यवसाय नहीं एक मिशन है| -
तिलक -संपादक युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. 

9911111611, 9999777358. 8743033968. 

Yug Darpan Media Samooh YDMS যুগদর্পণ, યુગદર્પણ  ਯੁਗਦਰ੍ਪਣ, யுகதர்பண  യുഗദര്പണ  యుగదర్పణ  ಯುಗದರ್ಪಣ,

http://raashtradarpan.blogspot.in/2013/10/blog-post.html
http://samaajdarpan.blogspot.in/2013/10/blog-post.html

http://kaaryakshetradarpan.blogspot.in/2013/10/blog-post.html


"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक

Tuesday, September 17, 2013

मोदी का ये चौसठवां जन्मदिवस

मोदी का ये चौसठवां जन्मदिवस
देश की आन बान और शान के प्रतीक नरेंद्र मोदी को उनके चौसठवें जन्मदिवस पर राष्ट्र की ओर से युग दर्पण परिवार हार्दिक शुभकामनायें व बधाई प्रेषित करता है  
नई दिल्ली। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस को विशेष बनाने के लिए उनके समर्थक व भाजपा विशेष ढंग से मनाने की तैयारियां कर रही हैं। इस अवसर पर उनके समर्थकों और पार्टी कार्यकर्ताओं में जबरदस्त उत्साह दिख रहा है। इसके साथ ही आज से भाजपा दिल्ली चुनाव के लिए अभियान भी आरंभ करने जा रही है। उधर, आज अपने जन्मदिवस पर मोदी ने सबसे पहले गांधीनगर में अपनी मां का आशीर्वाद लिया।
आज तालकटोरा स्टेडियम में कार्यकर्ताओं की रैली का आयोजन किया जा रहा है। इस रैली को राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के अतिरिक्त पार्टी के दिल्ली मामलों के प्रभारी नितिन गडकरी, प्रदेश अध्यक्ष विजय गोयल, विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता प्रोफेसर विजय कुमार मल्होत्रा सहित कई नेता संबोधित करेंगे। 
भाजपा की ओर से 13 सितंबर को प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित होने के बाद गुजरात के मुख्यमंत्री मोदी आज पहला जन्मदिवस मनाएंगे। मोदी का ये चौसठवां जन्मदिन है। वहीं गुजरात के जामनगर में मोदी के चित्रों वाले विशेष पेड़े बनाए गए हैं। पेड़े में चित्र के अतिरिक्त मोदी के प्र.मं बनने की कामना भी की गई है।
Veteran BJP leader L.K. Advani Lauds Narendra Modi
When veteran BJP leader L.K. Advani on Monday  endorsed Gujarat Chief Minister Narendra Modi as the BJP’s prime ministerial candidate, all gossip of power war must stop.
Advani today praised Modi and Lauded his performance in a public meeting at Korba in Chhattisgarh. Advani said Gujarat under Modi is the first state where electricity is provided 24 hours in every village. 
Speaking at a public rally in Raipur, Mr. Advani hailed the Gujarat government’s feat of bringing 24-hour power supply to all villages in the State. If the faith reposed in Mr. Modi “fructifies,” the senior BJP leader said, good governance provided by BJP governments could be replicated across the country..
Mr. Modi, however, was not the only BJP Chief Minister Mr. Advani had good words for. He also extolled the work done by Madhya Pradesh and Chhattisgarh Chief Ministers, Shivraj Singh Chouhan and Raman Singh.
Putting their performance in context, he said that while Gujarat was already a developed State, Madhya Pradesh and Chhattisgarh were backward.
At the National Council meeting in March, he had praised Mr. Chouhan even in the face of persistent slogans in favour of Mr. Modi and had compared Leader of the Opposition in the Lok Sabha Sushma Swaraj to the former Prime Minister, Atal Bihari Vajpayee.
As the JD(U) walked out of the NDA, ending its 17-year-old electoral partnership with the BJP, Mr. Modi was left with little scope for manoeuvrability in the party and the RSS.
However, Mr. Advani found it difficult to continue with his resistance once the other Modi naysayers — Sushma Swaraj and Murli Manohar Joshi — deserted ranks. Left completely isolated, the veteran had no choice but to assent to the Gujarat Chief Minister’s candidature..
At the Raipur rally, Mr. Advani, in his first public appearance since Mr. Modi’s anointment dedicated the 500MW Hasdeo Thermal Power (Expansion) Project and said: “… If any one has done this work [electrification in rural areas] first, it is my friend Narendra Modi.”
Mr. Modi, he further said in his 20-minute speech, was the “first [Chief Minister] to take a resolution that electricity should reach all the villages.”
Later talking to the reporters, he said: “The party move to give him [Mr. Modi] the responsibility of leading the country, if that fructifies… then we will repeat all the good work that we have done in the BJP-ruled States, across the country.”
Also appreciating the Chhattisgarh government’s “good work,” he said the State was following the Gujarat model of rural electrification and “has managed to reach out to the people.” “We worked not for mere vote bank politics, but honestly for the people [when the new State was formed].” The veteran leader also underscored the “super performance” of the Madhya Pradesh Chief Minister, a known loyalist of his.
“Shivraj Singh Chouhan vowed to take electricity to every village. Three districts were left … he said, he would complete the work at one go. He did … thus keeping his word.”
The BJP leaders in Chhattisgarh are of the opinion that Mr. Singh convinced Mr. Advani to call a truce and approve of Mr. Modi’s candidature. “The Chief Minister told us not to travel in the chartered flight from Raipur to north Chhattisgarh [to participate in the programme] with him and Mr. Advani. Perhaps this has helped the Chief Minister to convince Mr. Advani to select Chhattisgarh as the venue to deliver a pro-Modi message, which may finally bring the warring camps together,” said a senior BJP leader close to both Mr. Advani and Mr. Singh.
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक

Monday, March 11, 2013

नरेंद्र मोदी का धर्मनिरपेक्षता मंत्र:

नरेंद्र मोदी का धर्मनिरपेक्षता मंत्र:
narendramodiनई दिल्ली, 11 मार्च: जब व्हार्टन बिजनेस स्कूल में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्च बाद में संभावित मुख्य वक्ता के रूप में भाषण के रद्द करने की बात से आनंदित मोदी विरोधियों का मुह बंद हो गया  विडियो संपर्क के माध्यम गांधीनगर से मोदी ने भाषण में सीधा प्रवासी भारतीयों को संबोधित किया है सन्देश स्पष्ट था धर्मनिरपेक्षता का अर्थ भारत विरोध नहीं होता अपने संबोधन में मोदी ने "एक भारत, श्रेष्ठ  भारत" का मंत्र दिया और कहा कि भारतीयों को इस मंत्र के साथ आगे बढ़ना होगा मुख्यमंत्री ने आगे कहा है कि उसके लिए, धर्मनिरपेक्षता- "भारत प्रथम " का अर्थ है, "हम जो भी करते हैं, यह भारत के लिए होना चाहिए।  भारत, उसके सम्मान, लोगों के सपनों को हमें कभी प्रतिकूल रूप से प्रभावित नहीं होने देना चाहिए।  भारत पहले यह होना चाहिए ।  "यदि हम इस दृष्टिकोण का पालन करें, तो धर्मनिरपेक्षता हमारी नसों के माध्यम से स्वचालित रूप से पाठ्यक्रम होगा
गुजरात के मुख्यमंत्री ने हिंदी में दिये लगभग एक घंटे के लंबे भाषण में कहा, "हम भारत के हितों के रूप में उसकी प्रतिष्ठा, सपने या अपने युवाओं के भविष्य की किसी भी मुल्य पर पीड़ित करने की अनुमति नहीं देंगे" ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी के द्वारा आयोजित तथा सीधे प्रसारित किये गये भाषण में न्यू जर्सी और शिकागो, अमेरिकी राज्यों में रहने वाले भारतीय मूल के अमेरिकियों की उपस्थिति महत्वपूर्ण रही गुजरात पर बोलते हुए मोदी ने कहा, "गुजरात ने कभी नहीं कहा है कि वहाँ कोई समस्या या कमियाँ नहीं हैं किन्तु हमें विश्वास है, हम उनका निराकरण कर लेंगे" "जब हमें 5 वर्ष का जनादेश मिलता है, हम उसमें काम करते और लोगों की नि: स्वार्थ सेवा करते हैं तब यदि हम गलतियां करते हैं तो लोग हमारी गलतियों को माफ कर देंते हैं," मोदी ने कहा दिसम्बर 2012 में मोदी के नेतृत्व में, भाजपा निरंतर 3 बार सत्ता में आने में सफल रही
 भाषण यहाँ सुनें:- 
https://www.youtube.com/watch?v=PBWcVuJ3VWU&list=PL9F0886BCCB267DD1&index=52
प्रवासी भारतीय, गुजरात, समस्या, निराकरण, भारत प्रथम, सम्मान, सपने, युवा, भाजपा
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक
http://kaaryakshetradarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post.html, http://dharmsanskrutidarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post_11.html, http://samaajdarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post_11.html, http://raashtradarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post_11.html,

Friday, March 8, 2013

2 -3, मार्च 2013 अध्यक्षीय भाषण (शेष भाग)- राष्ट्रीय परिषद की बैठक, नई दिल्ली,

2 -3, मार्च 2013 अध्यक्षीय भाषण (शेष भाग)- राष्ट्रीय परिषद की बैठक,  नई दिल्ली,
अध्यक्षीय भाषण में उन्होंने अवैध बांग्लादेशी आप्रवासियों के निर्वासन की मांग की और हिंदुत्व के पक्ष में कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने इसके पक्ष में जीवन का एक रास्ता के रूप में फैसले को बरकरार रखा था और उनका कहना है कि यह हिंदू ही है जो 'वसुधैव कुटुम्बकम' में विश्वास कर (विश्व एक परिवार है) सबको गले लगाता रहा है
2 -3, मार्च 2013 अध्यक्षीय भाषण (राज नाथ सिंह day 1) - राष्ट्रीय परिषद की बैठक, सुरक्षा व अन्य
(जनता से सीधे जुड़े अन्य मुद्दों पर सीधे वीडियो देखें,: राज नाथ सिंह अध्यक्षीय भाषण 2 मार्च 2013-  https://www.youtube.com/watch?v=LYgKW66f7_8&list=PL07E4C2D4718D3CC6&index=48)
सभी वीडियो राष्ट्रीय परिषद-  https://www.youtube.com/playlist?list=PL07E4C2D4718D3CC6
समस्याओं का पिटारा व अन्य वर्ग: औद्योगिक क्षेत्र ठप्प, बेरोजगार व असंतोष में अपराधों, आतंक व नक्सलवाद से जुड़ता दिशाहीन युवा। अटलजी के नेतृत्व में राजग शासन से मिले भरे भण्डार व देश के प्राकृतिक संसाधनों को खाली करने में लगे घोटालों की सरकार व भ्रष्ट शासन ने, विश्व महाशक्ति की दिशा में बदते कदम को आर्थिक कुप्रबंधन व भ्रष्टाचार की बेड़ियों से जकड़ दिया। आज भारतीय अर्थव्यवस्था की वास्तविक विकास की दर राजग शासन के समय के 8/9 % से आधा से नीचे 4/5 % है, जबकि मुद्रा स्फीति दर 4/5 % से बढकर 8/9 % हो गई है। अमीर और गरीब के बीच की खाई बहुत तेजी से बढ़ रही है। जिसे खाड़ी, न्यूयॉर्क में बैठे लोगों द्वारा देखा जा सकता है, किन्तु नई दिल्ली में यह लोग देखने में असमर्थ हैं। गरीबों की आंखों के माध्यम से गरीबी के दर्द को देखने की तुलना में संवेदनशुन्य भारत सरकार 32 रुपये और 26 रुपये के आधार पर गरीबी रेखा के आँकड़े छुपाने में लगी हुई है।
आर्थिक दुर्दशा: किसान और दलित:
आँकड़े की ही बात करें तो इस देश के 58 % किसान गरीबी रेखा के आसपास रह रहे हैं। वित्त मंत्रालय की उच्च शक्ति समिति ने यह कहा था कि 98 % उद्योग असंगठित क्षेत्र में है किन्तु इस विशाल क्षेत्र में बैंक ऋण का 1.4 % ही जाता है। अर्थव्यवस्था के पीछे की सोच ऐसी है कि विकास का उजाला न केवल बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए, पितु गांवों, सड़कों पर रिक्शा चालकों, ढाबे में मजदूरों, किसानों को भी पहुंचता है होना चाहिए। कृषि पर निर्भर 70 % आबादी के देश में किसान एक बहुत दयनीय हालत में है। यूरोपीय संघ और अमेरिका अपने किसानों को भारी सब्सिडी दे रहे है। जबकि भारत, जो कृषि प्रधान देश के रूप में जाना जाता है एक ऐसी आर्थिक नीति का अनुसरण कर रहा है जो कृषि क्षेत्र के लोगों को अन्य अनुत्पादक व्यवसायों में विस्थापित करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है।
यदि हम भारत को 21 वीं सदी में विश्व के अग्रणी देखना चाहते हैं, भारत में विश्व के अनाज उत्पादन का सबसे बड़ा केंद्र बनने की क्षमता है। भारत को केवल विनिर्माण, वित्तीय या बौद्धिक राजधानी नहीं बनाया जा सकता है, क्योंकि भारत में परंपरागत रूप से भौगोलिक, प्राकृतिक और मानव संसाधन है।
भारत विश्व में सबसे बड़ा, सबसे उपजाऊ और सबसे घनी आबादी वाला भूभाग है. इसलिए हमारी आर्थिक नीति को इस प्राकृतिक क्षमता के सन्दर्भ में रखकर बनाया जाना चाहिए।
भाजपा सुशासन: हमारी राज्य सरकारों ने कृषि क्षेत्र में बहुत अच्छा काम किया है। यह बात हमारे काम में परिलक्षित हो रही है।  जबकि गुजरात में हर किसान के पास एक मिट्टी की गुणवत्ता दिखाता कार्ड है। गुजरात एकमात्र ऐसा राज्य है जहां भूजल का स्तर बड़ा है और सभी किसानों को मिट्टी कार्ड मिल गया है। मध्य प्रदेश में कृषि विकास दर 18.96 % के रिकार्ड स्तर पर पहुंच गई है। मध्य प्रदेश के बाद कर्नाटक राज्य में 0% ब्याज पर किसानों के लिए ऋण संवितरण के अलावा अन्य और काम भी किये जाते हैं। गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक में हमारी सरकारों द्वारा किये कार्यों का विवरण हमारे मुख्यमंत्रियों द्वारा दिया जाएगा।
यदि हम सत्ता में आते हैं तो
  • हम न केवल किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य, अपितु उनकी आय का बीमा हो,  'कृषि आय बीमा योजना' को लागू करेंगे ।
  • हम खाद्य सुरक्षा विधेयक को और अधिक व्यावहारिक बनायेंगे और छत्तीसगढ़ के समान सार्वजनिक वितरण प्रणाली में सुधार होगा।
  • हम भूजल और सिंचाई की समस्या के उचित समाधान के लिए एक राष्ट्रीय जल नीति देंगे।
  • हम कृषि ऋण की नीति का पुनर्निर्धारण करेंगे।
  • हम दूध उत्पादन और डेयरी उद्योग को प्राथमिकता देंगे।
  • पंजाब और हरियाणा में जहां मिट्टी की उर्वरता में रासायनिक उर्वरकों के उपयोग के कारण से कमी आई है, भूमि की उर्वरता बढ़ाने के लिए सूक्ष्म पोषक तत्व उचित मुल्य पर उपलब्ध करायेंगे
  • हम गांव स्तर पर बिजली और पानी के लिए एक 'समेकित नीति' सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा और बायोगैस का उपयोग करने के लिए देंगे।
  • कृषि क्षेत्र में यथासंभव जैविक खेती को बढ़ावा दिया जाएगा और स्वदेशी तकनीक जैसे चावल गहनता प्रणाली(एसआरआई) की तरह, गेहूं गहनता प्रणाली (श्रृंगार) की तकनीक, जिसमें कम पानी और जैव उर्वरकों का उपयोग किया जाता है, के माध्यम से गेहूं और चावल के उत्पादन को बढ़ावा देने और जीएम प्रौद्योगिकी के बिना खेती की जाये, प्रारंभिक परीक्षणों में परिणाम बहुत उत्साह वर्धक कर रहे है, को लागु व प्रोत्साहित करेंगे। 
  • We will promote organic farming in agricultural sector as far as possible and promote production of rice and wheat through Swadeshi technology like System of Rice Intensification (SRI), System of Wheat Intensification (SWI) in which less water and organic fertilizers are used and cultivation is done without GM technology. The results are very encouraging in the initial tests.
अन्य वर्ग:
महिलाओं से अमानवीय अपराध में वृद्धि: 
इन जघन्य घटनाओं से दिल्ली व देश तड़प उठे। वर्मा कमेटी का गठन हुआ, उस पर रिपोर्ट आई। सरकार ने अध्यादेश भी जारी किया, देश के शांत होते ही सरकार शांत हो गई। अध्यादेश पर संसद में चर्चा कराने का सरकार के पास समय नहीं है। यदि हमें सत्ता में आने का अवसर मिलता है तो हम प्रयास करेंगे कि ऐसे अमानवीय अपराध में मृत्यु दंड का प्रावधान किया जाना चाहिए। अकेले कठोर दंड नहीं, इस के लिए विभिन्न स्तरों पर कार्य किया जाना होगा। सबसे पहले, पुलिस और प्रशासन के स्तर पर सक्रियता के साथ संवेदीकरण बढ़ाना। और दूसरी महिलाओं की भागीदारी से समाज में जागरूकता अभियान आयोजित करना । और तीसरे नैतिक शिक्षा और संस्कार में प्रशिक्षण देना आवश्यक बनाया जाना चाहिए।
युवा:
भारत आज पूरे विश्व के सबसे अधिक युवाओं की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अर्जित कई उपलब्धियां/कीर्तिमानों  का सबसे युवा देश है। विश्व में सॉफ्टवेयर जैसे क्षेत्रों में भारतीय युवकों ने अपनी पहचान बनाई है। किन्तु एक अन्य वास्तविकता भी है कि भारत के युवाओं के दो तिहाई गांवों में रहते हैं। यह युवा जो सबसे बडे नक्सली प्रभाव के तहत आने वाले अनुभाग झारखण्ड, छत्तीसगढ़, ओड़िसा, आंध्र प्रदेश, बंगाल और बिहार के पिछड़े क्षेत्रों में गरीबी और बेरोजगारी के साथ संघर्ष कर रहा है। कहने का उद्देश्य है कि भारत में युवाओं की समस्या विविध है किन्तु सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी की है। क्योंकि यह पहली समस्या है जो युवाओं को आसानी से अपराध और आतंकवाद की ओर खींचती है।
स्वतंत्र भारत के इतिहास में अधिकतम रोजगार सृजन राजग शासन के समय किया गया था और यूपीए सरकार की गलत आर्थिक नीतियों के कारण बेरोजगारी में लगातार वृद्धि हुई है। युवाओं से जुड़ा हुआ एक अन्य पक्ष है, नैतिक मूल्यों में गिरावट का। दिल्ली सामूहिक बलात्कार के मामले में एक तरह से यह संकट दिखा भी है। समाज और सरकार के साथ हमें युवाओं को भारतीय और नैतिक मूल्यों के प्रति रूचि बनाने के लिए प्रयास करना चाहिए।
भारत में शरणार्थी: शरणार्थी राहत और पुनर्वास नीति की कमी के कारण भारत आने वाले शरणार्थियों को अनिश्चितता के बीच जीना होता है। यदि हम को सरकार बनाने का अवसर मिलता है हम एक तर्कसंगत शरणार्थी नीति देंगे।

जम्मू और कश्मीर: जम्मू और कश्मीर के आतंकवादी संगठनों द्वारा पंचायत स्तर पर लोकतंत्र को नष्ट किया गया और विगत एक वर्ष में कई सरपंच मारे गए हैं। जम्मू और कश्मीर सरकार पंचायतों को आर्थिक सहयोग व सरपंचों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने में भी विफल रही है। आतंकवादी संगठनों ने सार्वजनिक रूप से सरपंचों को त्याग पत्र देने के लिए धमकाया है। इस संदर्भ में प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखा गया है, किन्तु यूपीए सरकार ने इस पर चुप्पी बनाए रखी है।
जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा में 111 सीटें है जिनमें से पीओके निहित 24 सीटें खाली रहती हैं। इस रूप में मात्र 87 सीटों पर ही चुनाव आयोजित कर रहे हैं। हमें लगता है कि पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर से विस्थापित लोगों से नामांकन के द्वारा इन 24 सीटों को भरने के लिए प्रावधान बनाया जाना चाहिए।

तेलंगाना और अलग राज्य के मुद्दे
तेलंगाना के गठन के लिए कई वर्षों से जन आंदोलन चल रहा है किन्तु यूपीए सरकार जान - बूझकर अनदेखी कर रही है।  तेलंगाना के गठन के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दर्शाने में केंद्रीय गृह मंत्री ने 28 जनवरी की समय सीमा निर्धारित की थी। फिर भी तेलंगाना का सपना आज तक साकार नहीं किया गया है। आभास लगाना कठिन नहीं है कि आंध्र प्रदेश की यह सरकार नक्सल समूहों और हैदराबाद में सक्रिय जेहादी समूहों के प्रति उदार है। यह तेलंगाना आंदोलन दबाने में कठोरता को देखा जा सकता है। तेलंगाना के लोगों की भावनाओं को हम समझते हैं और यदि केंद्र में राजग सरकार का गठन हुआ तो हम तेलंगाना राज्य के गठन के लिए मार्ग प्रशस्त करेंगे।
हमारी (राजग) राज्य सरकारें व सुशासन : :
यूपीए सरकार के अनैतिक भ्रष्टाचार और कुप्रबंधन से त्रस्त देश की जनता के लिए, इस संदर्भ में अटल जी के नेतृत्व में राजग सरकार की स्मृति स्वर्ण युग की स्मृति की तरह है। हमारी आज की राज्य सरकारों ने विकास और सुशासन की उस परंपरा को जीवित रखा व अनेक कीर्तिमान भी बनाये है।

छत्तीसगढ़:
राज्य का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) कुशल वित्तीय प्रबंधन के कारण लगातार बढ़ रहा है। विकास दर के संदर्भ में छत्तीसगढ़ चार अग्रणीधावक राज्यों में से एक है। वर्ष 2009-10 में छत्तीसगढ़ की विकास दर 11.49 % थी, जो कि देश में एक वर्ष में सबसे अधिक है। कृषि और संबंधित क्षेत्रों की विकास दर में भी छत्तीसगढ़ पाँच उच्चतम अग्रणी राज्यों के में एक है। हमारी सरकार के शासन के तहत प्रति व्यक्ति बिजली की खपत 350 इकाईयों से बढ़कर प्रति वर्ष 1547 इकाई हो गई है।
खाद्य सुरक्षा कानून बनाने वाला छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है। इस प्रदेश की जनसंख्या का 90 % इसके तहत भोजन और प्रोटीन सुरक्षा के लाभ पाता है। सार्वजनिक वितरण प्रणाली में छत्तीसगढ़ ने देश के समक्ष एक भव्य उदाहरण दिया है।
http://bjp.org/images/pdf_2013/presentationversionfoodppt03.03.2013.pdf
http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=V0I3ju11uog
कर्नाटक:
दोस्तों, दक्षिण भारत में पहली भाजपा सरकार कर्नाटक में बनी। कर्नाटक की भाजपा सरकार ने विगत चार वर्षों में कई अद्भुत काम किये है। आईटी और मूलभूत सुविधाओं के साथ साथ, कृषि के क्षेत्र में भी कर्णाटक ने अब तक की उच्च विकास दर प्राप्त की। कृषि के क्षेत्र में वर्ष 2011-12 का अलग कृषि बजट तथा शून्य % दर पर किसानों को ऋण देने में कर्नाटक देश का पहला राज्य बन गया है। इस के लिए 2011 में कर्नाटक राज्य ने कृषि के क्षेत्र में नेतृत्व के लिए 'राष्ट्रीय कृषि नेतृत्व पुरस्कार' प्राप्त किया।
रोजगार के लिए दक्षता विकसित करने के लिए कर्नाटक 'कौशल आयोग' का गठन करने वाला देश में पहला राज्य बन गया। हमें दृढ़ विश्वास है कि आने वाले विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी के शानदार प्रदर्शन से फिर से अपनी सरकार बन जाएगी।

बिहार:
पूरा देश साक्षी है, बिहार में राजग सरकार के सत्ता में आने के बाद जिस स्तर का परिवर्तन लाया गया। बिहार सरकार ने कुछ असाधारण कार्य किये है। ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना में 11.95% वृद्धि दर से बिहार सर्वोच्च रहा। यह पहला राज्य बन गया है जहाँ कृषि से संबंधित 18 विभागों के संयोजन के द्वारा एक कृषि कैबिनेट का गठन किया गया है। बिहार सरकार ने कृषि का जो मार्ग अपनाया है, इस कुशल कृषि नीति के माध्यम से नालंदा जिले में एक किसान ने चावल की प्रति हेक्टेयर 22 टन के उत्पादन से एक विश्व रिकॉर्ड की स्थापना की है।पहले यह रिकॉर्ड चीन के पास था।

पंजाब:
पंजाब की राजग सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि वे पिछली कांग्रेस सरकारों द्वारा बनाये गए अत्यधिक सांप्रदायिक वातावरण को सामान्य बनाने में सफल रही है। इसके साथ, विकास के कई नए कीर्तिमान स्थापित किये हैं। पंजाब सरकार ने कृषि उत्पादन की उनकी शानदार परम्परा को बनाए रखने के साथ, मूलभूत ढांचे और औद्योगिक विकास की विभिन्न परियोजनाओं पर कार्य शुरू किया है। इस कारण हमने पंजाब के इतिहास में पहली बार दूसरे कार्यकाल के जीत का अनुभव मिला है।

मध्य प्रदेश:
mar_3_2013_c.jpgमध्य प्रदेश सरकार ने विकास की एक नई गाथा लिखी है. प्रति व्यक्ति आय 3 गुणा हो गयी है और कृषि विकास दर ने 19 % के रिकार्ड स्तर को छुआ है। यह 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने की क्षमता का गुजरात के बाद दूसरा राज्य हो गया है। मध्य प्रदेश सरकार की 'लाडली लक्ष्मी योजना' जैसे कुछ कार्यक्रम राष्ट्रीय चर्चा का विषय बने है। मध्य प्रदेश सरकार ने लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम दिया है, जो एक निश्चित अवधि में निर्णय सुनिश्चित करता है। सौ से अधिक सेवाओं का समूह इसके दायरे में लाया गया।  विश्व बैंक ने इस की प्रशंसा की है और संयुक्त राष्ट्र ने अच्छे प्रशासन के लिए मध्य प्रदेश सरकार को सम्मानित किया है। सरकार ने 'मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना' द्वारा एक अद्वितीय सांस्कृतिक पहल शुरू की है।
http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=F_Z704yPlGYगोवा:
गोवा में भाजपा सरकार ने कई अन्य विकास कार्यों के साथ साथ बड़ी मूलभूत ढांचा परियोजनाओं को शुरू किया है। गोवा डीजल और पेट्रोल के मूल्य को कम करने वाला पहला राज्य है। यहाँ भी सक्रिय 'लाडली लक्ष्मी योजना' और 'गृह आधार योजना' जैसी योजनाओं के माध्यम से महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के साथ, राज्य के लगभग सभी लोगों को इलेक्ट्रॉनिक राशन कार्ड जारी किए गए हैं। सरकार 'नव कामधेनु सुधारित योजना' के माध्यम से दुधारू गायों की खरीद पर 90 % तक सब्सिडी भी प्रदान कर रही है। मनोहर परिकर नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने स्वच्छ और पारदर्शी प्रशासन सुनिश्चित करने के लिए, विधानसभा में लोकायुक्त विधेयक को भी पारित कर दिया है।
http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=yx9xxkEBoCU
गुजरात:
गुजरात सरकार द्वारा निर्धारित विकास के कार्यों की न केवल देश में बल्कि पूरे विश्व में प्रशंसा की जा रही है। गुजरात कुशल और पारदर्शी प्रशासन का एक उदाहरण बन गया है। यह हर किसी के लिए 24 घंटे बिजली और अब साफ पानी उपलब्ध कराने वाला प्रथम राज्य है। चूंकि विगत 11 वर्ष से कृषि विकास दर 10 % से ऊपर है। सभी किसानों के पास मिट्टी कार्ड हैं और 'चिरंजीवी योजना' जैसे कार्यक्रमों के द्वारा हर गर्भवती महिला को चिकित्सा सुविधा प्राप्त है।
गुजरात के कुशल प्रशासन की यूरोपीय संघ, ब्रिटेन और अमेरिकी कांग्रेस की रिपोर्ट में भी प्रशंसा की जा रही है। गुजरात भाजपा के लिए गौरव का एक प्रतीक बन गया है।
तो हमारे सभी राज्य सरकारों ने सुशासन के नए कीर्तिमान स्थापित किये हैं।
http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=iMOJLGLUzbQ

बूथ समिति:
भाजपा में एक बड़ा संगठन है. लेकिन यह जमीनी स्तर पर ले हम सब की जिम्मेदारी है. हम पहले से ही बूथ स्तर के लिए हमारे संगठन लेने के कार्यक्रम का आयोजन कर रहे हैं. हम यह सुनिश्चित करना चाहिए कि एक विशिष्ट समय सीमा में सभी बूथ स्तरीय समितियों का गठन किया जाना चाहिए.
और भी हैं... इक्कीसवीं शताब्दी हमारी होगी: भाजपा राष्ट्रीय परिषद की बैठक 2 -3, मार्च 2013 , पूरा पदें http://yuvaadarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post.html
http://raashtradarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post.html

मान्यता धरोहर ज्ञान विज्ञान शैली: ये ब्लाग देखें
धर्म संस्कृति:- http://www.dharmsanskrutidarpan.blogspot.com/ 
ज्ञान विज्ञान:- http://www.gyaanvigyaandarpan.blogspot.com/ 
जीवन शैली:- http://www.jeevanshailydarpan.blogspot.com/ 

पर्यटनधरोहर:- http://www.paryatandharohardarpan.blogspot.com/

आर्थिक संकल्प मुद्रास्फीति की दर और भ्रष्टाचार यूपीए सरकार की पहचान । पूरा पदें, 
सम्बद्ध वीडियो देखें :
1) http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=-xhUX3Moubc
2) http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=GCHwfRKsFIw#!
3) http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=3DR3WO0EfPg
4) 
राजनैतिक प्रस्ताव यूपीए प्रधानमंत्री रूप में डा. मनमोहन सिंह के और श्रीमती सोनिया गांधी के नेतृत्व में अनियंत्रित भ्रष्टाचार को परिभाषित यूपीए सरकार। पूरा पदें, वीडियो 
1) http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=EkoSiWy2YNY
2) http://www.bjp.org/index.php?option=com_content&view=article&id=8598:points-made-shri-m-venkaiah-naidu-while-intervening-in-debate-on-political-resolution&catid=68:press-releases&Itemid=494

आर्थिक प्रस्ताव पूरा पदें,/ 
वीडियो https://www.youtube.com/playlist?list=PL8Z1OKiWzyBH5cYSl-5k2QwQ-UT5oyRRH
राजनैतिक प्रस्ताव पूरा पदें,/ 
वीडियो https://www.youtube.com/watch?v=CiK-iG_mFL4&list=PL07E4C2D4718D3CC6&index=52
विश्वगुरु रहा वो भारत, इंडिया के पीछे कहीं खो गया | इंडिया से भारत बनकर ही, विश्व गुरु बन सकता है; - तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक