Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.
Showing posts with label घरवापसी. Show all posts
Showing posts with label घरवापसी. Show all posts

Tuesday, December 9, 2014

शर्मनिरपेक्षो 'कुछ तो शर्म करो' !

शर्मनिरपेक्षो 'कुछ तो शर्म करो' !
वन्देमातरम, हर भारतीय अवश्य पढ़े,
सबको शेयर अवश्य करें; Share All
उनकी घर वापसी, इनकी पीड़ा;
जब वो घर छोड़ गए, ये चुप रहे ?
उनकी घर वापसी का, हंगामा कर डाला ?
अपने होते तो अपनाते; गैर हैं जो छुटकारा पाते।
कौन मित्र -कौन शत्रु, अँधेरा दूर कर डाला।


तुम संरक्षक थे, मुसलमानों के नहीं, आतंकियों के;
मूसल इमान वाले; इनके समीप हो गए।
हिन्दुओं को सांप्रदायिक कहकर, आतंकियों का समर्थन किया;
तुम तो वोट बैंक मानते रहे, किन्तु इन्होने गले लगा लिया।
तुम्हारा खेल सारा, हम अब समझ गए;
तुम्हे कष्ट है कि हम, घर वापिस क्यों आ गए ?
-तिलक YDMS 7531949051.

उत्तिष्ठत अर्जुन, उत्तिष्ठत जाग्रत ! 

नकारात्मक मीडिया के भ्रम के जाल को तोड़, सकारात्मक ज्ञान का प्रकाश फैलाये। 

समाज, विश्व कल्याणार्थ देश की जड़ों से जुड़ें, युगदर्पण मीडिया समूह के संग।। YDMS

      जब नकारात्मक बिकाऊ मीडिया जनता को भ्रमित करे, 
तब पायें - नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प- युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. 
हिंदी साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्र, 2001 से
पंजी सं RNI DelHin11786/2001(सोशल मीडिया में
     विविध विषयों के 30 ब्लाग, 5 नेट चेनल  अन्य सूत्र) की

        60 से अधिक देशों में एक वैश्विक पहचान। -YDMS  07531949051

স্বদেশ প্রত্যাবর্তন, ફર્યાનો, ಮರಳುತ್ತಿರುವ, தாயகம் திரும்பும், హోమ్కమింగ్, ഘര് വപ്സി, ਪਲੀਤੀ, گھر واپسی
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक