Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.
Showing posts with label देशद्रोही. Show all posts
Showing posts with label देशद्रोही. Show all posts

Saturday, July 27, 2013

कौन सच्चा है कौन झूठा

कौन सच्चा है कौन झूठा 

पहले 5 रू में खाना मिलने का नाहक शोर व्यापक स्तर पर मचाया, जब जब हल्ला मच गया तब सारा दोष योगना योग पर डालने वाले सारे गधे, पहले एकसाथ गदर्भ राग क्यों गा रहे थे ? इससे 2 बात स्पष्ट हैं एक इनके सरके सारे नेता मंत्री तक गधे हैं। तथा जनता को भी अपने जैसा समझते हैं।  दूसरे कोई गदर्भ राज है जो इन्हें जैसा कहे गाने लगते हैं। चाल उलटी पड़ने पर पलटी मारने में माहिर है। जैसे ये वैसा इनका नेता। इनके हाथों देश का बनेगा कुछ नहीं- लुटेगा सबकुछ !  ये तो अपनी ही बात  उसका औचित्य सिद्ध करने में नंगे हुए हैं, किन्तु दूसरों को तो कुचक्र द्वारा कीचड़ उछाल कर शोर मचाया जाता है। अब यह स्पष्ट हो गया है, कौन जनता को भ्रमित कर रहा है। अब दूध का दूध  पानी का पानी हो चुका है ! क्या अब भी हम इनके भ्रम में फंसेंगे ?शत्रुओं को  जय भारत फिर इस  दे कर देश से आओ इनसे देश बचाएँ द्दारी क्यों ?               जय भारत 
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक

Tuesday, July 2, 2013

...और कितना गिरोगे देश के गद्दारो ?

मोदी विरोध में कांग्रेस का इतना गिरना !!!....और कितना गिरोगे देश के गद्दारो ?
Photoमोदी विरोध में कांग्रेस का गिरना तो समझा, गृह मंत्री चिदम्बरम का इतना गिरना व पद का दुरूपयोग करना ... !! .. और कितना गिरोगे देश के गद्दारो ?
लश्कर ए तोएबा की 19 वर्षीय इशरत जहाँ की अपने 3 साथियों जावेद शेख, अमजदाली अकबराली राना और जीशान जोहर सहित मौत 2004 में अहमदाबाद के बाहरी क्षेत्र में पुलिस के साथ एक मुठभेड़ में तब हुई थी, जब वह नरेन्द्र मोदी की हत्या के लिए वहां आई हुई थी । अन्य साथी कथित मानवाधिकार कार्यकर्ता बन कर देश के कानून का लाभ उठाते हुए मुठभेड़ को हत्या का नाम देने लगे। मोदी के विरोधियों ने अवसर देख आतंकियों को समर्थन देना व प्रशासन को हत्यारा दर्शाने में कोई कमी नहीं छोड़ी। साथ में मोदी को लपेटने का हर संभव प्रयास भी किया किन्तु साँच को आंच नहीं, सत्य सामने आ ही गया। अब सबकी दृष्टी 4 जुलाई को सीबीआई की स्थिति रिपोर्ट पर लगी है।
इस मामले में गृह मंत्रालय ने पहले शपथ-पत्र में इशरत और उसके साथियों को लश्कर के आतंकवादी बताया था। पी.चिदंबरम के गृहमंत्री बनने के बाद दूसरे शपथ-पत्र में इससे इनकार किया गया। इस जांच की देखरेख कर रहे गुजरात उच्च न्यायालय ने सीबीआई को निर्देश दिया है कि मृतकों के आतंकवादी होने या  होने को अनदेखा कर एनकाउंटर की सचाई का पता लगाया जाए। वाह रे गृहमंत्री, वाह रे न्याय (?) की अभिलाषा !!!!
Photo: दोस्तों ये हे गुजरात हाईकोर्ट की जज एवं हिमाचल के सी .एम वीरभद्र सिंह की पुत्री अभिलाषा कुमारी ,जिसने इशरत जंहा एंकाउंटर में सी .बी .आई को निर्देश दिया की वो केवल ये जाँच करे की मुठभेड फर्जी थी या असली उसे कोई मतलब नही की वो आतंकी थी या नही !! दोस्तों इस प्रकार के निर्देशों में कांग्रेसी साजिशन की बू निश्चित तोर पर आती हे ....क्योकि इस धरती पर जीवित व्यक्ति पर बेकग्राउंड का पूरा असर रहता हे ......क्योकि इन दिनों जिस प्रकार जजों के कूकर्म निकल कर सामने आ रहे हे इनकार नही किया जा सकता हे .....मोदी जी को पिछले 1 1 वर्षो में घेरने के लिए कांग्रेस ने पिछवाड़े तक घोड़े खोल के देख लिए हे लेकिन मोदी जी इनके राजनितिक बाप हे ...अब कांग्रेस के पास ये आखरी मोका हे जिसमे कांग्रेस पूरा जोर लगा देगी ...दोस्तों ये अमेरिकन जाँच एजेंसियों ,भारतीय एजेंसियों में ,सभी सबूतों में प्रूव हो चूका हे की इशरत जंहा पाकिस्तान के लश्कर ए त्येब्बा नामक नेटवर्क की हिस्सा थी ......क्या आतंकियों को मारना भी क्या गुनाह हे ?गुजरात उच्च न्यायालय की न्यायाधीश एवं हिमाचल के मु मं वीरभद्र सिंह की पुत्री अभिलाषा कुमारी, ने किस अभिलाषा से इस पद को कलंकित किया ? मित्रो, ये है गुजरात उच्च न्यायालय की न्यायाधीश एवं हिमाचल के मु मं वीरभद्र सिंह की पुत्री अभिलाषा कुमारी, जिसने इशरत जहां एंकाउंटर में सी .बी .आई को निर्देश दिया कि वो केवल ये जाँच करे कि मुठभेड फर्जी थी या असली। उसे कोई मतलब नही की वो आतंकी थी या नही !! मित्रो, इस प्रकार के निर्देशों में कांग्रेसी कुचक्रों की नीचता का स्तर निश्चित होता है। ....क्योकि इस धरती पर जीवित व्यक्ति पर खानदान की परम्परा का पूरा असर रहता है। ......क्योकि इन दिनों जिस प्रकार जजों के कुकर्म निकल कर सामने आ रहे है, इसे नकारा नही किया जा सकता है। .....मोदी जी को पिछले 11 वर्षो में घेरने के लिए कांग्रेस ने पिछवाड़े तक घोड़े खोल के देख लिए है। किन्तु मोदी जी इनके राजनितिक बाप है। ...अब कांग्रेस के पास ये अन्तिम अवसर है। जिसमे कांग्रेस पूरा दम लगा देगी। ...मित्रो, ये अमेरिकन जाँच एजेंसियों, भारतीय एजेंसियों में, सभी सबूतों में प्रमाणित हो चुका है कि इशरत जंहा पाकिस्तान के लश्कर ए तोएबा नामक नेटवर्क की अंग थी। ......क्या, आतंकियों को मारना भी क्या अपराध है ?
दूषित राजनीति के बिकाऊ नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प Join YDMS ;qxniZ.k सन 2001 से हिंदी साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्र, पंजी सं RNI DelHin 11786/2001 विशेष प्रस्तुति विविध विषयों के 28+1 ब्लाग, 5 चैनल व अन्य सूत्र, की 60 से अधिक देशों में  एक वैश्विक पहचान है। तिलक -संपादक युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. 

9911111611, 

9999777358. 8743033968. 

Yug Darpan Media Samooh YDMS যুগদর্পণ, યુગદર્પણ  ਯੁਗਦਰ੍ਪਣ, யுகதர்பண  യുഗദര്പണ  యుగదర్పణ  ಯುಗದರ್ಪಣ,


http://bharatvarshasyaitihas.blogspot.in/2013/07/blog-post.html



यह राष्ट्र जो कभी विश्वगुरु था, आज भी इसमें वह गुण,
योग्यता व क्षमता विद्यमान है | आओ मिलकर इसे बनायें; - तिलक
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | छद्म वेश में फिर आया रावण |
संस्कृति में ही हमारे प्राण है | भारतीय संस्कृति की रक्षा हमारा दायित्व || -तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक