Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.
Showing posts with label भारत रत्न. Show all posts
Showing posts with label भारत रत्न. Show all posts

Tuesday, December 23, 2014

वाजपेयी और मम मालवीय को भारत रत्न

अटल बिहारी वाजपेयी और मदन मोहन मालवीय को भारत रत्न

युदस नदि: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और महामना मदन मोहन मालवीय को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किए जाने का निर्णय गुरुवार को आज घोषणा वाजपेयी के 90वें जन्मदिन से एक दिन पूर्व की गई है। राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी वक्तव्य में कहा गया, 'राष्ट्रपति अति हर्ष के साथ पंडित मदन मोहन मालवीय ( मरणोपरांत) और अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न से सम्मानित करते हैं।' 
कल अर्थात 25 दिसंबर को अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिन है, जिसे मोदी सरकार 'सुशासन दिवस' के रूप में मना रही है। संयोग से मदन मोहन मालवीय का जन्मदिन भी 25 दिसंबर को ही पड़ता है। अब तक 43 लोगों को यह सम्मान दिया जा चुका है। ऐेसे में वाजपेयी और मालवीय, इस भारत रत्न सम्मान से विभूषित किये जाने वाले 44वें और 45वें व्यक्ति हैं। भाजपा लंबे समय से वाजपेयी जो भारत रत्न देने की मांग करती रही थी। ऐसे में यह लगभग तय माना जा रहा था कि सत्ता में आने के बाद वह वाजपेयी को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान करेगी। अटल भारत रत्न से सम्मानित होने वाले भाजपा से जुड़े पहले नेता हैं। वाजपेयी के साथ-साथ बनारस हिंदू विवि के संस्थापक मदन मोहन मालवीय को भी मरणोपरांत भारत रत्न दिए जाने की घोषणा की गई है। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार अपने चुनाव क्षेत्र वाराणसी जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि वाराणसी के लिए निकलने से पूर्व वह अटल बिहारी वाजपेयी से मिलकर, उन्हें जन्मदिन पर शुभकामनाएं देंगे। वाजपेयी को कई ठोस पहल करने का श्रेय दिया जाता है, वे ऐसे प्रथम प्रधानमंत्री बने, जिनका संबंध कभी कांग्रेस से नहीं रहा। भारत के सर्वाधिक चमत्कारी नेताओं में से एक वाजपेयी को एक महान नेता और भाजपा का उदारवादी चेहरा बताया जाता है। वाजपेयी के आलोचक उन्हें संघ का 'मुखौटा' मानते हैं।
दूरदृष्टा और महान शिक्षाविद् मालवीय की मुख्य उपलब्धियों में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना शामिल है। मालवीय को स्वतंत्रता संग्राम में उनकी सशक्त भूमिका और हिंदू राष्ट्रवाद के प्रति उनके समर्थन के लिए भी स्मरण किया जाता है। वह दक्षिणपंथी हिंदू महासभा के आरम्भिक नेताओं में से एक थे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं राष्ट्रपति से इन दोनों महान विभूतियों को भारत रत्न से सम्मानित करने की अनुशंसा की थी। 
नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प
-युगदर्पण मीडिया समूह YDMS- तिलक संपादक
यह राष्ट्र जो कभी विश्वगुरु था, आज भी इसमें वह गुण,
योग्यता व क्षमता विद्यमान है | आओ मिलकर इसे बनायें; - तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक