Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.
Showing posts with label नर. Show all posts
Showing posts with label नर. Show all posts

Saturday, March 9, 2013

** "हे भारत की नारी"**

** "हे भारत की नारी"** Pl. Copy,Paste,Tag frnds
महिला दिवस मनाती नारी अपनी अस्मिता को पहचान,
पवित्र बंधन है, अधिकार ओ दायित्व का समन्वय व मेल। 
नारी मुक्ति का डंका बजाने वाले यह गठबंधन क्या जानें,
उनके लिए तो हर इक नारी शमा व नर हैं केवल परवाने।
पुष्प का मान तभी तक है जब तक डाली के साथ रहे।
डाली से छितरे पुष्प तो केवल मसले कुचले ही जायेंगे।
जीवन का यह सिद्धांत क्यों हमें समझाया नहीं आता ?
जब तक दोनों पहिये न चले, वाहन कोई चल नहीं पाता।
-तिलक 9911111611 yugdarpan.com"
अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | 
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||" युगदर्पण