Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.

Wednesday, October 2, 2013

नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में हुंकार

Monday, September 30, 2013

 नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में हुंकार

नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में हुंकारजानिए क्‍या खास रहा नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में नरेंद्र मोदी की दिल्‍ली रैली में, नरेंद्र मोदी एक ओर दिल्ली के नेता दूसरी ओर नितिन गडकरी व सिद्धू आदि 

नई दिल्‍ली। भाजपा के प्रधानमंत्री प्रत्याशी नरेंद्र मोदी ने दिल्‍ली में एक भारी जनसभा को संबोधित किया, जिसमें अधिकतर लोग युवा वर्ग से थे। इस रैली में मोदी का भाषण सुनने के बाद कांग्रेस के कई नेता हलकान हैं। किसी की बोलती नहीं निकल रही है। मोदी ने अपने डेढ़ घंटे के भाषण में क्‍या कहा, उसके मुख्‍य बिंदु हम आपके लिये लेकर आये हैं। दिल्‍ली में भाजपा के पास विजय ही विजय हैं। विजय मल्‍होत्रा, विजय गोयल, आदि।  दिल्‍ली में कई सरकारें चल रही हैं, कहीं मां की सरकार तो कहीं बेटे की सरकार। साझा सरकार गणित से बनती है, किन्तु चलती केमिस्‍ट्री से है। कांग्रेसी दल पास-पास तो हैं, किन्तु साथ-साथ कतई नहीं हैं। अफसोस होता है कि हमारे प्रमं सरदार हैं, किन्तु असरदार नहीं हैं। 

दिल्‍ली की मुमं का कार्य सबसे सरल है। वो मात्र रिबन काटती फिरती हैं। कुछ बड़ा हुआ तो जिम्‍मेदारी केंद्र की, छोटा हुआ तो नगर निगम की। कॉमनवेल्‍थ घोटाला करके कांग्रेसियों ने देश का आत्मसम्मान लूटा है। उसने खेलों के आयोजनों में हमारे आने वाले भविष्‍य को छीन लिया है। सुप्रीम कोर्ट लगातार कांग्रेसियों के विरुद्ध निर्णय सुना रहा है, किन्तु ये लोग शराबी की तरह नशे में चूर हैं। संप्रग इस समय गांधी भक्ति में व्‍यस्‍त है। नोटों पर छपे गांधीजी की पूजा कर रही है। 

आज का युवा नौकरी चाहता है। राजग ने 6 करोड़ लोगों को रोजगार दिया था, जबकि संप्रग ने मात्र 27 को रोजगार दिया है। प्रधानमंत्री ओबामा के सामने अपने देश की गरीबी की 'मार्केटिंग' कर रहे हैं। उन्‍हें शर्म आनी चाहिये। प्रमं उसी फिल्‍म निर्माता की तरह काम कर रहे हैं, जो भारत की गरीबी पर फिल्‍म बनाता है और विदेशों में बेच कर अवार्ड ले आता है। देश जानना चाहता है कि नवाज शरीफ से आज हमारे प्रमं क्‍या कहेंगे। 

नवाज शरीफ आपकी औकात क्‍या है। आपने हमारे प्रमं को देहाती औरत कैसे बोला। हम घर के अंदर चाहे जितना लड़ें, किन्तु बाहर वाला हमारे ऊपर उंगली उठाये, यह हम सहन नहीं करेंगे। क्‍या प्रमं नवाज शरीफ से सैनिकों के कटे हुए सिर ला पायेंगे। यदि प्रमं के सम्मान का फलूदा बन रहा है तो वो मात्र कांग्रेस के उपाध्‍यक्ष के कारण से। उन्‍होंने ही प्रमं की पगड़ी उछाली है। देश को अब 'डर्टी टीम' नहीं, 'ड्रीम टीम' की आवश्यकता है। संप्रग सरकार के पास कोई 'विजन' नहीं है। आप कोई भी बजट या योजना उठाकर देख लीजिये। 

मोदी को वर्षों से दो अंकों में गुजरात के आर्थिक विकास के साथ भाग्य बदलने का श्रेय दिया जाता है उसके गर्मजोशी से दिये भाषण सुनने के लिए उमड़े जन सैलाब में, उन लोगों ने मोदी का उत्साह पूर्वक स्वागत किया । कार्य क्रम में उपस्थित जनसमूह का एक बड़ा भाग उस वर्ग से था, जिसे सामान्यत भाजपा से काट कर देखा जाता है, अर्थात मुस्लिम व समाज के दलित  तथा युवा वर्ग तो दिविवि चुनाव में अभाविप के साथ खड़ा हो कर पहले ही प्रमाण दे चुका है। स्पष्टत:   कांग्रेस सभी वर्गों का विश्वास खो चुकी है तथा अब शीघ्र ही, दिग्विजय की श्रेणी के, कभी भी कुछ भी बक देने वाले वक्ता /प्रवक्ता हर ओर, हर बात के अर्थ का कुअर्थ बना कर देश का अनर्थ करने, सनसनी चेनलों व मीडिया में कूदते मिलेंगे। किन्तु नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक, व्यापक, विकल्प युग दर्पण मीडिया समूह, YDMS के पाठक जानते हैं, कि हमारे यहाँ ऐसी बकवास के लिए कभी कोई स्थान नहीं रहा है। क्योंकि हम किसी व्यक्ति, समूह या सत्ता के प्रति नहीं; राष्ट्र, समाज व सत्य के प्रति समर्पित हैं।  

सम्बद्ध समाचार ** नरेन्द्र मोदी की भाजपा के 'प्रधानमंत्री प्रत्याशी' के रूप में घोषणा होने के बाद उन्होंने चुनाव प्रचार कमेटी का अध्यक्ष पद त्याग  दिया है। मोदी के पद छोड़ने के बाद पार्टी के संसदीय बोर्ड ने राजनाथ सिंह को चुनाव प्रचार अभियान समिति की कमान सौंप दी।    

दिल्ली में मोदी की रैली को 20,000 मुसलमानों का समर्थन!. 

** अमेरिकी इंटेलीजेंस एजेंसियां कई बर्षो से मोदी के बारे में ब्यापक सूचनाए इक्कट्ठा कर रही है .. और उनके आकड़े तथा तथ्य हमेशा जमीनी हकीकत पर आधारित होते है .. अभी हाल की दिल्ली रैली के दौरान अमेरिकी इंटेलीजेंस बिभाग के बहुत से एजेंट पत्रकारों के भेष में मोदी की सभा का आकलन और प्रभाव का विश्लेषण करने आये थे   

India’s opposition Bharatiya Janata party (BJP) leader Narendra Modi waves to supporters as he arrives to address a public rally in New Delhi, India, Sunday, Sept. 29, 2013.  अजय माकन ने कहा है कि नरेंद्र मोदी ने एक पाकिस्‍तान के जर्नलिस्‍ट की झूठी खबर पर प्रतिक्रिया देकर देश के पीएम पद का अपमान किया है।                            ** ढ़ाई करोड़ लोगों को मोबाईल देकर संप्रग 2014 के लोकसभा चुनाव में क्‍या लाभ पा सकेगी, फिलहाल घोटाले और अक्षम  प्रशासन के कारण सरकार प्रश्नों के घेरे में है।  अपनी चुनावी रैली के मध्य हर जगह मनरेगा का जाप करने वाले राहुल गांधी ने एक बार फिर इसी योजना द्वारा सत्‍ता में वापसी का सपना सजा रखा है किन्तु इसका  उद्देश्य लोगों को रोजगार देना नहीं, बल्कि ढाई करोड़ लोगों को इंटरनेट उपयोग किये जाने में सक्षम मोबाइल दे वोट लेना है। इस योजना के अंतर्गत मनरेगा में पंजीकृत प्रत्‍येक परिवार के एक सदस्‍य को मोबाइल दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त दो वर्ष तक प्रति माह 30 रूपये का 'मुफ्त रिचार्ज' भी दिया जाएगा। जिस पर उपभोक्‍ता को प्रति माह तीस मिनट तक बात करने, 30 एसएमएस और 30 एमबीपीएस तक इंटरनेट उपयोग करने की सुविधा दी जाएगी।    कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी सोनिया गांधी के एक करीबी से नाराज हैं। कांग्रेस दो गुटों में बंट या है। एक गुट जो राहुल गांधी की टीम में है, जबकि दूसरी टीम सोनिया गांधी की है। बताया जा रहा है कि जब दागी नेताओं पर इस अध्यादेश को लाने के प्रयास चल रहे थे तभी राहुल कैंप के माने जाने वाले नेताओं ने इसके विरुद्ध बयान देना शुरू कर दिया था। संप्रग सरकार ने दागी नेताओं को राहत दी, किन्तु अब इस निर्णय के विरुद्ध कांग्रेस में ही गुटबाजी शुरु हो गई है। इस अध्यादेश को बकवास करार देते हुए राहुल गांधी ने उस प्रेस कान्फ्रेंस में खलबली मचा दी जिसे अध्यादेश के महिमामंडन के लिए ही रखा गया था। यह एक ऐसा फैमिली ड्रामा था, जिसे लेकर कांग्रेस में हैरानी थी, तो विरोधियों को हँसी आ रही थी। 

दागियों पर अध्यादेश के विरुद्ध राहुल का जलापा, प्रत्यक्ष रूप से उनकी अपरिपक्वता की ही निशानी था। केन्द्र में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार हो, मंत्रीमंडल उस अध्यादेश को स्वीकृति दे और ठेठ राष्ट्रपति तक अध्यादेश पहुँच जाए, तब तक राहुल अनजान रहें...यह आश्चर्यजनक नहीं, परंतु हास्यास्पद व नाटक ही लगता  है। मोदी की दिल्ली रैली से ठीक 48 घण्टे पहले राहुल द्वारा की गई इस ‘बकवास' ने सीधे-सीधे मोदी को एक मुद्दा दे दिया है।

दिल्ली में दहाड़ के बाद आज मुंबई में मोदी करेंगे हीरा कारोबारियों से मुलाकातमुंबई। देश की राजधानी दिल्ली में मोदी की विशाल रैली के सफल होने के बाद अब उनका अगला पड़ाव मायानगरी मुंबई है। दिल्ली में गर्जना के बाद आज भाजपा के प्रमं प्रत्याशी नरेंद्र मोदी मुंबई में हीरा व्यापारियों को संबोधित करेंगे। मोदी की ये रैली गैर राजनीति है। भाजपा के प्रमं प्रत्याशी बनने के बाद ये मोदी की पहली मुंबई यात्रा होगी। मोदी यहां डायमंड मर्चेट एसोसिएशन के डायमंड हाल का उदघाटन करेंगे। वास्तव में भाजपा समर्थको का तर्क है कि यदि मोदी को मिशन 2014 सफल करना है तो उन्हें आम आदमी से लेकर, कारपोरेट और राजनीतिक समर्थन प्राप्त करना होगा। पार्टी का मानना है कि मुंबई के इस गैर राजनीतिक कार्यक्रम से हिंदुत्व और विकास के एजेंडे को एक साथ लाने में सहायता मिलेगी जो भाजपा के मिशन 2014 के लिए आवश्यक है। विशेषबात ये भी है कि मोदी सदा से सभी वर्गों को साथ लेकर चलने में विश्वास रखते है। ऐसे में उन्हें आम लोगों के साथ-साथ व्यापारिक जगत को लेकर भी साथ चलना है। दिल्ली में दहाड़ के बाद मुंबई में मोदी हीरा व्यापारियों से भेंट करेंगे 

दूषित राजनीति के बिकाऊ नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प 
Join YDMS ;qxniZ.k सन 2001 से हिंदी साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्र, पंजी सं RNI DelHin 11786/2001 
विशेष प्रस्तुति विविध विषयों के 28+1 ब्लाग, 5 चैनल व अन्य सूत्र,की 60 से अधिक देशों में  एक वैश्विक पहचान है। पत्रकारिता व्यवसाय नहीं एक मिशन है| -
तिलक -संपादक युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. 

9911111611, 9999777358. 8743033968. 

Yug Darpan Media Samooh YDMS যুগদর্পণ, યુગદર્પણ  ਯੁਗਦਰ੍ਪਣ, யுகதர்பண  യുഗദര്പണ  యుగదర్పణ  ಯುಗದರ್ಪಣ,

http://raashtradarpan.blogspot.in/2013/10/blog-post.html
http://samaajdarpan.blogspot.in/2013/10/blog-post.html

http://kaaryakshetradarpan.blogspot.in/2013/10/blog-post.html


"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक
Post a Comment