Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.

Wednesday, April 30, 2014

तिवारी ने गडकरी से मांगी, बिना शर्त क्षमा

तिवारी ने गडकरी से मांगी, बिना शर्त क्षमा
केन्द्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने दुर्भावना पूर्वक भाजपा के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी के विरुद्ध आदर्श सोसायटी घोटाले के संदर्भ में लगाए गए मिथ्या आरोपों के लिए उनसे ‘‘बिना शर्त क्षमा’’ मांगी है। भाजपा द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार तिवारी ने न्यायालय में दिए लिखित वक्तव्य में गडकरी पर लगाए गए गलत आरोपों के लिए क्षमा मांगते हुए कहा है कि भविष्य में वह आदर्श सोसायटी को लेकर उनके बारे में ऐसी कोई टिप्पणी नहीं करेंगे, जिनसे उनकी मानहानी हो। तिवारी ने कांग्रेस प्रवक्ता के रूप में 10 नवंबर, 2010 को संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया था कि गडकरी का आदर्श सोसायटी में 'बेनामी फ्लैट' है।
गडकरी ने इस आरोप का खंडन करते हुए तिवारी से क्षमा मांगने को कहा था, किन्तु तब ऐसा नहीं करने पर उन्होंने आपराधिक मानहानि का मामला अंकित किया। तिवारी ने मुंबई की अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की न्यायालय में दिए लिखित वक्तव्य में कहा, कि आदर्श सोसायटी घोटाले की जांच के लिए गठित न्यायिक आयोग की रपट देखने के बाद यह स्पष्ट हुआ है, कि ‘‘इस घोटाले में आपका किसी तरह का कोई लेना देना नहीं था।’’ उन्होंने स्वीकार किया, कि 10 नवंबर, 2010 को उन्होंने जो वक्तव्य दिया था, वह सही तथ्यों पर आधारित नहीं था। गडकरी ने तिवारी की ‘‘बिना शर्त क्षमा याचना’’ के बाद न्यायालय से कांग्रेस नेता के विरुद्ध अपनी याचिका वापस ले ली है। 
मनीष तिवारी ने तो "क्षमा याचना’’ कर ली किन्तु इन मिथ्या आरोपों के सन्दर्भ से केजरीवाल मिथ्या आरोपों के प्रहार करता रहा तथा भाजपा के विरुद्ध जनता को भ्रमित कर लोकतंत्र से खिलवाड़ करता रहा। जब तक मनीष तिवारी अथवा केजरीवाल जैसों पर प्रभावी रोक क़ी कर्यवाही नहीं होती तब तक हम इसे सफल लोकतंत्र में चुनाव आयोग की निष्पक्षता कैसे मान लें। 
नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का
सार्थक संकल्प -युगदर्पण मीडिया समूह YDMS- तिलक संपादक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक

Monday, April 14, 2014

मंगलवार, 15 अप्रैल को हनुमान जयंती है।


शास्त्रों के अनुसार मंगलवार को ही बजरंग बली का जन्म हुआ है। इस कारण इस वर्ष हनुमान जयंती (पूर्णिमा) पर किए उपाय, अतिशीघ्र शुभ फल प्रदान करेंगे। इस दुर्लभ योग में जो भी व्यक्ति हनुमानजी की भक्ति और दर्शन करेगा, उसके सभी दुख-दर्द दूर हो जाएंगे। यहां मात्र 3 उपाय बताए जा रहे हैं, जो हनुमान जयंती पर किए जा सकते हैं। आप इन तीनों उपायों को कर सकते हैं और इन तीन उपायों में से कोई एक उपाय भी कर सकते हैं। ये उपाय नींबू, नारियल और दीपक से संबंधित है।मंगलवार दि 15 अप्रेल हनुमान जयंती का संयोग है। आप सभी को यह संयोग मंगलकारी हो। 
कइयों को, मंगल भारी पड़ता है, संकट मोचन को प्रसन्न करने के इन 3 सरल उपाय से बरसेगी हनुमान कृपा, संकटों का होगा अंत। फिर मंगल ही मंगल। कृ तीनों उपायों को यहाँ पढ़ें-
कभी विश्व गुरु रहे भारत की, धर्म संस्कृति की पताका;
 विश्व के कल्याण हेतू पुनः नभ में फहराये | - तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक

Tuesday, April 8, 2014

मोदी विरोधी -शर्मनिरपेक्ष राष्ट्रद्रोही क्यों हैं ?

मोदी विरोधी -शर्मनिरपेक्ष राष्ट्रद्रोही क्यों हैं ?
डॉ. स्वतंत्र कुमार शर्मा की फ़ेसबुक पोस्ट से साभार ..... 
देखिये सीधी सी बात ये हैं कि ..... 
● मुझे वाकई फर्क नहीं पड़ता कि मोदी अम्बानी के एजेंट हैं या अडानी के क्यूंकि मुझे विश्वास हैं वो पाकिस्तान के एजेंट नहीं हैं |
● मुझे नहीं मालूम कि मैं मोदी को वोट क्यूँ दूंगा लेकिन मुझे अच्छी तरह मालुम हैं कि मुझे कांग्रेस व AAP को वोट क्यूँ नहीं देना हैं |
● मुझे नहीं मालूम कि मोदी गुजरात के तरह ही देश को चला पायेंगे या नहीं लेकिन ये यकीन हैं कि वो वादे करके 49 दिन में भागेंगे नहीं |
● मुझे ये भी नहीं मालूम कि मोदी हिंदुत्व को आगे ला पायेंगे या नहीं लेकिन इसका यकीन हैं वो इमाम बुखारी व तौकीर रजा जैसों से हाथ नहीं मिलायेंगे |
● मुझे वाकई नहीं मालूम कि कांग्रेस ने क्या-क्या वादे किए हैं लेकिन ये अच्छी तरह मालूम हैं कि मोदी ने कितने वादे निभाए हैं |
● मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मोदी के पास 56 इंच का सीना हैं या नहीं लेकिन ये पता हैं कि उनके सीने में 'दम' हैं 'दमा' नहीं |
● मुझे वाकई नहीं मालूम की पीएम बनने के बाद मोदी भारत से छिनी गयी भूमि वापस ले पायेंगे या नहीं पर इतना यकीन हैं कश्मीर उन्हें नहीं दिया जाएगा |
● मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अगर मोदी के आने से सीनियर लीडर नाराज़ हो जाए क्यूंकि मुझे यकीन हैं उनके आने से युवा पीढ़ी खुश हो जायेगी |
और अंत में 
● मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मोदी के पास इतिहास की जानकारी हैं या नहीं क्यूंकि मुझे पक्का यकीन हैं उनके पास भविष्य की तैयारी हैं |
निष्कर्ष अब क्या कोई भी व्यक्ति औसत बुद्धि का भी हो तो मोदी विरोध के नाम से राष्ट्र द्रोह का साथ देगा? हम सीमा पर सैनिकों की भांति शत्रु से लड़ भले न पाएं; किन्तु राष्ट्रद्रोही शर्मनिरपेक्षों की भांति व्यव्हार व उनका साथ कदापि नहीं दे सकते।  
वन्देमातरम, जब नकारात्मक बिकाऊ मीडिया जनता को भ्रमित करे, तब पायें - नकारात्मक बिकाऊ मीडिया का सकारात्मक राष्ट्रवादी व्यापक सार्थक विकल्प, युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. 28 Blogs Vividh, + पत्रकारिता में एक आधुनिक विचार, लघु आकार सम्पूर्ण समाचार 2001 से युगदर्पण राष्ट्रीय साप्ताहिक समाचारपत्र, ....
यदि आप भी मुझसे जुड़ना चाहते हैं, तो आपका हार्दिक स्वागत है, संपर्क करें औऱ अपने सम्पर्क सूत्र सहित बताएं, कि आप किस प्रकार व किस स्तर पर कार्य करना चाहते हैं, तथा कितना समय देना चाहते हैं ? आपका आभार अग्रेषित है। 9911111611, 7531949051.
-तिलक सं युगदर्पण मीडिया समूह 9911111611 
Media For Nation First & last. राष्ट्र प्रथम से अंतिम, आधारित मीडिया YDMS
https://www.facebook.com/pages/Media-For-Nation-First-last-%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%A5%E0%A4%AE-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%AE-%E0%A4%86%E0%A4%A7%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%AE%E0%A5%80%E0%A4%A1%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE-YDMS/497128860336278
हम जो भी कार्य करते हैं, परिवार/काम धंधे के लिए करते हैं | 
 देश की बिगडती दशा व दिशा की ओर कोई नहीं देखता | आओ मिलकर इसे बनायें; -तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक

Monday, April 7, 2014

राम नवमी शोभा यात्रा 15 को,

राम नवमी-हनूमान जयंति विशाल शोभा यात्रा 15 को, तैयारियां जोरों पर
नई दिल्ली अप्रेल 6, 2014। विश्व हिन्दू परिषद-दिल्ली, मीडिया प्रमुख, विनोद बंसल,  से प्राप्त राम प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार नवमी के उपलक्ष्य में दिल्ली के राम लीला मैदान से गंगेश्वर धाम करोल बाग तक निकलने वाली विशाल शोभा यात्रा की तैयारियां इन दिनों जोरों पर हैं। इस संबन्ध में आज बुलाई गई एक महत्वपूर्ण बैठक में निर्णय लिया गया कि दिल्ली में 10 अप्रेल को होने वाले चुनावों को देखते हुए, इस बार राम नवमी की शोभा यात्रा हनूमान जयंति के दिन अर्थात 15 अप्रेल को निकाली जाएगी। बैठक के बाद हिन्दू पर्व समन्वय समिति के महा मंत्री श्री राम पाल सिंह यादव ने बताया, कि संतों का मत है कि इस बार श्री राम नवमी के दिन से प्रारम्भ होने वाले श्री राम महोत्सव के 8 दिवसीय उत्सव के समापन वाले दिन अर्थात राम भक्त हनूमान जी की पावन जयन्ति के दिन 15 अप्रेल को ही यह शोभा यात्रा निकाली जाए। इससे चुनाव रूपी राष्ट्रीय यज्ञ में जी-जान से जुटे राम भक्त और सरकारी मशीनरी को भी लाभ मिलेगा।
पहाड गंज स्थित उदासीन आश्रम में विश्व हिन्दू परिषद, सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा तथा दिल्ली संत महा मण्डल के संयुक्त तत्वावधान में हिन्दू पर्व समन्वय समिति द्वारा प्रत्येक वर्ष दिल्ली के राम लीला मैदान से निकाली जाने वाली इस विशाल शोभा यात्रा से इस बार की यात्रा अधिक भव्य व विशाल होगी। दिल्ली के पूज्य संतों ने देश में राम राज्य की पुन:प्रतिष्ठा हेतु प्रत्येक देश भक्त से शत-प्रतिशत मतदान करने की अपील की है।
कभी विश्व गुरु रहे भारत की, धर्म संस्कृति की पताका;
विश्व के कल्याण हेतू पुनः नभ में फहराये | - तिलक
विश्वगुरु रहा वो भारत, इंडिया के पीछे कहीं खो गया |
इंडिया से भारत बनकर ही, विश्व गुरु बन सकता है; - तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | इक दिया,
तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक
http://dharmsanskrutidarpan.blogspot.in/2014/04/15.html
http://raashtradarpan.blogspot.in/2014/04/15.html
http://samaajdarpan.blogspot.in/2014/04/15.html

Sunday, April 6, 2014

भाजपा को स्थापना दिवस उपहार

भाजपा को स्थापना दिवस उपहार 
'Spectacular BJP win'भाजपा और उसके सहयोगी दलों को लोकसभा चुनाव में अभी तक 259 सीटों पर विजय, शुक्रवार को जारी एक सर्वेक्षण के अनुसार, जबकि कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन को 123 सीटें पाने का अनुमान है। 
जिसमे भाजपा 214 सीटों का अनुमान और कांग्रेस 104, एनडीटीवी द्वारा सर्वेक्षण के अनुसार। 
उत्तर प्रदेश जैसे राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य में जहां भाजपा ने नरेंद्र मोदी को अपनी ओर से प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के रूप मैदान में उतारा है, भाजपा के लिए यह एक "भव्य जीत" दर्शाता है। 
http://raashtradarpan.blogspot.in/2014/04/blog-post.html
http://samaajdarpan.blogspot.in/2014/04/blog-post.html
http://kaaryakshetradarpan.blogspot.in/2014/04/blog-post.html

'भाजपा की भव्य जीत'

भाजपा को 2009 चुनाव में मात्र 10 की तुलना में, राज्य की 80 सीटों में से 53 जीत की आशा है. 
उत्तर प्रदेश केंद्र में सत्ता की कुंजी है क्योंकि अब तक भाजपा का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 1998 के चुनावों में था, जब यह राज्य में 57 सीटें जीती है। 
भाजपा सवर्ण और पिछड़ी जाति के मतदाताओं का एक गठबंधन यह बनाने के लिए काम 1990 के दशक में उत्तर प्रदेश में बड़ी विजय का संकेत है। दूसरी ओर दक्षिण में तेदेपा की राजग में वापसी, 10 वर्ष पश्चात् भाजपा के भाग्य का चक्र घूमा है। यह भाजपा को उसके स्थापना दिवस उपहार है। 
सर्वेक्षण से यह भी पता चला है, कि हर राज्य के किसी क्षेत्र में बड़े नेताओं के क्षेत्ररक्षण की अपनी रणनीति के साथ भाजपा का भाग्योदय हो सकता है। 
A new
survey says
the BJP is
expected to win
53 of UP's 80 seats,
compared to just
10 in the 2009
polls. Pictured is BJP prime ministerial candidate Narendra Modiचित्र में भाजपा प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेंद्र मोदी
 
सर्वेक्षण में कांग्रेस और अजित सिंह के नेतृत्व में अपने सहयोगी दल राष्ट्रीय लोकदल के लिए सबसे बड़ा क्षय की भविष्यवाणी की गई है। 
वे 2009 में 26 सीटों में से मात्र सात सीटों के लिए आशा कर रहे हैं। 
उत्तर प्रदेश में भाजपा का लाभ भी समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के लिए खाते से हैं। 
2009 में राज्य में सबसे अधिक सीटें जीतने वाली समाजवादी पार्टी, इस समय मात्र 13 या नीचे10सीटों पर सीमित रह जायेगी। 
पार्टी को गत वर्ष के मुजफ्फरनगर दंगों के प्रभाव का फल भुगतना लगता है और गत माह के सर्वेक्षण निष्कर्ष में भाजपा और उसके सहयोगी दलों को संसद में 230 का तथा कांग्रेस और उसके सहयोगियों के लिए 128 सीटों का आंकड़ा दर्शाया गया था। 
यह नया सर्वेक्षण, पहले सर्वेक्षण से भी एक मामूली उच्च आंकड़ा प्रस्तुत करता है। नए साथी जुड़ना चालू है, तथा स्थिति और बदलेगी। 
एक नए सर्वेक्षण से कहते हैं. कि भाजपा को उत्तर प्रदेश की 2009 चुनाव में मात्र 10 की तुलना में 80 सीटों में से 53 जीत की आशा है।
उत्तेजना व भूलों से बचे रहें, अंतत: लक्ष्य 272+ सफल हो ही जायेगा। 
यह राष्ट्र जो कभी विश्वगुरु था, आज भी इसमें वह गुण,
 योग्यता व क्षमता विद्यमान है | आओ मिलकर इसे बनायें; - तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक