Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.

Tuesday, November 4, 2014

सियासत, विरासत और खिसियाहट

सियासत, विरासत और खिसियाहट 
21वीं सदी की राजनीति में सफलता के आयाम, जो असफलता चाहें, तो पूरा न पढ़ें। 
जब सत्ता को विरासत समझने वालों के दिन लने लगे, तब विरासत के ठेकेदारों ने विरासत मनमोहन को सौंप दी। किन्तु मौन कठपुतली बने, नाम के मनमोहन, किसी का मन मोह नहीं सके। न पप्पू विरासत ढोने योग्य थे। 
तब एक नए युग का सूत्रपात हुआ, इनके कुशासन व लूटराज से मुक्ति का युग आरम्भ हुआ। इस कड़ी में दो नाम उभरे। एक 'मोदी' जिसे विरासतदारों का बिकाऊ नकारात्मक मीडिया 2002 से पानी पी पी कर कोस रहा था, किन्तु गुजरात की जनता में उसके कार्य अपनी पैठ बना रहे थे। साम्प्रदायिकता के कलंक के विपरीत भेदभाव रहित शासन में, उसे मुस्लिमों ने भी अपनाया था। वे तीनों बार पहले से अधिक प्रचण्ड बहुमत से जनादेश पा कर अधिक सेवा का अद्भुत उदाहरण बने। साडी खिसियाहट इसी बात की है। 
दूसरा नाम प्रचार की देन 'केजरीवाल' का, जिसे अन्ना आंदोलन से पूर्व कोई जानता न था। दिल्ली में चल गया, तो उसने पूरे देश को, अपने प्रचार तंत्र में फंसाने का काम शुरू कर दिया !! अंधेरों से उठ कर दिल्ली का मु मं बना, तो मुँगरीलाल ने प्रधान मं बनने लोभ में छोटी कुर्सी को ठोकर मार दी। (जिस प्रकार 2004 में सोनिया को मदर टेरेसा बनाया गया था, देश लुटता भी रहा, जय गाते भी रहे, भ्रमजाल में फंसे ये लुटने वाले) केजरीवाल का  कुर्सी त्याग प्रचारित होने लगा। किन्तु बड़ी कुर्सी के लोभ का सत्य खुला, तो केजरीवाल 'थप्पड़ लाल' बन गया। केवल पँजाब के अतिरिक्त पूरे देश के 404 में से 400 प्रत्याशी, विजय तो क्या, जमानत बचा पाने में भी असफल रहे। कार ठोस काम का अभाव केवल, गुब्बारे में भरी हवा से पूरा नहीं होता। ठुस्स हो गया ! 
मोदी को गुजरात के पश्चात, देश की बागडोर सौंपने के कारण, पूरे विश्व में भारत ने अपनी, समाज में मोदी की साख बनाई है। महाराष्ट्र में शिवसेना की पूँछ पकडे बिना, सबसे बड़ा दल बने, हरियाणा में भाजपा ने, मात्र 4 से 47 की लम्बी छलांग से अपने बल पर बहुमत पाया। अब दिल्ली में भी मोदी के नेतृत्व में, भाजपा को सत्ता सौंप देगी। किन्तु, केजरीवाल को दिल्ली के बाद, देश में सत्ता से दूर होने के बाद, अब फिर से दिल्ली में सत्ता सौंपने के नाम पर, जनता बाबा जी का ठुल्लू ही सौंपेगी !!  इसके 70 प्रत्याशी, यदि खड़े हो भी गए; कोई एक भी जमानत बचने का दावा नहीं कर सकता, यदि मीडिया के बल पर जनता को भ्रमित कर लिया तो सत्य प्रकट होने में समय नहीं लगेगा !!!!!!!! 
जय हो !!

उत्तिष्ठत अर्जुन, उत्तिष्ठत जाग्रत !! 

समाज विश्व कल्याणार्थ देश की जड़ों से जुड़ें, युगदर्पण मीडिया समूह के संग।

जब नकारात्मक बिकाऊ मीडिया जनता को भ्रमित करे, 

तब पायें - नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प- 
युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. 
हिंदी साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्र, 2001 से
पंजी सं RNI DelHin11786/2001(सोशल मीडिया में
     विविध विषयों के 30 ब्लाग, 5 नेट चेनल  अन्य सूत्र) की

        60 से अधिक देशों में एक वैश्विक पहचान। -YDMS  07531949051

हम जो भी कार्य करते हैं, परिवार/काम धंधे के लिए करते हैं |
देश की बिगड चुकी दशा व दिशा की ओर कोई नहीं देखता |
आओ मिलकर कार्य संस्कृति की दिशा व दशा श्रेष्ठ बनायें-तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक
Post a Comment