Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.
Showing posts with label PBD. Show all posts
Showing posts with label PBD. Show all posts

Sunday, December 28, 2014

Pravasi Bharatiya Divas (PBD) (प्रभादि)

ऐ मातृ भूमि के वंशजो, तुम्हे भारती पुकारती। 
युदस नदि: प्रवासी भारतीय दिवस (प्रभादि) 'पीबीडी' अपने विशाल विदेशी प्रवासी परिजन समुदाय को भारत से जोड़ने के लिए और अपने ज्ञान, विशेषज्ञता और कौशल को एक साझा मंच पर लाने के लिए, प्रवासी भारतीय दिवस कन्वेंशन - प्रवासी भारतीय मामलों के मंत्रालय (एमओआईए) भारत सरकार का प्रमुख प्रसंग, 07-09 जनवरी 2003 के बाद से हर वर्ष आयोजित किया जाता है। 
भारत के विकास में प्रवासी भारतीय समुदाय के योगदान को चिह्नित करने के लिए, हर वर्ष 9 जनवरी को इस अवसर का जश्न मनाने के लिए चुना गया है। कि जनवरी 9, 1915 में इस दिन महात्मा गांधी, सबसे बड़ा प्रवासी, दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे, भारत के स्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व किया और सदा के लिए भारतीयों के जीवन को बदल दिया था। 
यह सम्मेलन सरकार और विदेशों में बसे भारतीय समुदाय के लिए एक मंच प्रदान करने, पारस्परिक रूप से लाभप्रद गतिविधियों के लिए, और अपने पूर्वजों की भूमि के लोगों को साथ संलग्न करने के लिए 2003 के बाद प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलनों के रूप में हर वर्ष आयोजित किए जा रहे हैं। इन सम्मेलनों में विश्व के विभिन्न भागों में रहने वाले प्रवासी भारतीय समुदाय के बीच संजालन में भी बहुत उपयोगी होते हैं और विभिन्न क्षेत्रों में अपने अनुभवों को साझा करने के लिए उन्हें सक्षम बनाते हैं।
इस अवसर पर, असाधारण योग्यता के व्यक्तियों को भारत के विकास में उनकी भूमिका की सराहना करने के लिए प्रतिष्ठित प्रवासी भारतीय सम्मान पुरस्कार से सम्मानित कर रहे हैं। यह अवसर विदेशों में बसे भारतीयों के विषय में महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा के लिए एक मंच प्रदान करता है।
प्रभादि के रूप में अब तक भारत के बारह विभिन्न स्थानों में निम्नानुसार आयोजित किया गया है:  2014 नई दिल्ली, 2013 कोच्चि, 2012 जयपुर, 2011 नई दिल्ली, 2010 नई दिल्ली, 2009 चेन्नई, 2008 नई दिल्ली, 2007 नई दिल्ली, 2006 हैदराबाद, 2005 मुंबई, 2004 नई दिल्ली, 2003 नई दिल्ली। 
इसी प्रकार अपनी जड़ों से जोड़ने का एक अभियान 15 वर्ष पूर्व चला एवम विविध विषयों पर 30 ब्लॉग 2010 में आरम्भ हुए, तथा एकल प्रयास द्वारा 70 देशों तक YDMS ने विशिष्ठ पहचान बनाई। -
युग दर्पण, अंतरिक्ष दर्पण, विश्व दर्पण, राष्ट्र दर्पण, समाज दर्पण, युवा दर्पण, शिक्षा दर्पण, जीवन शैली  दर्पण, धर्म संस्कृति दर्पण, ज्ञान विज्ञानं दर्पण, पर्यावरण दर्पण, पर्यटन धरोहर दर्पण, सत्य दर्पण, कार्य क्षेत्र दर्पण, महिला घर परिवार दर्पण, व 15 अन्य। हमारे ब्लॉग लिंक हेतु search YugDarpan - yugdarpan.blogspot.com -Home page menu - विविध ब्लॉग 
भारत के प्रति विश्व सकारात्मक तब होगा जब हम सकारात्मक होंगे, इंडिया के भौतिक रूप को नहीं भारत की आत्मा से सक्षात्कार करेंगे। तिलक YDMS 
Those who want to Join us at PBD (प्रभादि
To connect India to its vast overseas diaspora and bring their knowledge, expertise and skills on a common platform, the PBD Convention - the flagship event of Ministry of Overseas Indian Affairs (MOIA), Government of India is organized from 7th-9th January every year since 2003.
Pravasi Bharatiya Divas (PBD) is celebrated on 9th January every year to mark the contribution of Overseas Indian community in the development of India. January 9 was chosen as the day to celebrate this occasion since it was on this day in 1915 that Mahatma Gandhi, the greatest Pravasi, returned to India from South Africa, led India's freedom struggle and changed the lives of Indians forever.
PBD conventions are being held every year since 2003. These conventions provide a platform to the overseas Indian community to engage with the government and people of the land of their ancestors for mutually beneficial activities. These conventions are also very useful in networking among the overseas Indian community residing in various parts of the world and enable them to share their experiences in various fields.
During the event, individuals of exceptional merit are honoured with the prestigious Pravasi Bharatiya Samman Award to appreciate their role in India's growth. The event also provides a forum for discussing key issues concerning the Indian Diaspora.2003 
So far, twelve PBDs have been held in various places of India as follows: 
2014 New Delhi, 2013 Kochi, 2012 Jaipur, 2011 New Delhi, 2010 New Delhi, 2009 Chennai, 2008 New Delhi, 2007 New Delhi, 2006 Hyderabad, 2005 Mumbai, 2004 New Delhi, 2003 New Delhi 

उत्तिष्ठत अर्जुन, उत्तिष्ठत जाग्रत ! 

नकारात्मकता के भ्रम के जाल को तोड़, सकारात्मक ज्ञान का प्रकाश फैलाये। 

समाज, विश्व कल्याणार्थ देश की जड़ों से जुड़ें, युगदर्पण मीडिया समूह के संग।। YDMS

हिंदी साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्र, 2001 से
पंजी सं RNI DelHin11786/2001(सोशल मीडिया में
    विविध विषयों के 30 ब्लाग, 5 नेट चेनल  अन्य सूत्र) की

        60 से अधिक देशों में एक वैश्विक पहचान। -YDMS  07531949051

"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक