Desh Bhaktike Geet

घड़ा कैसा बने?-इसकी एक प्रक्रिया है। कुम्हार मिटटी घोलता, घोटता, घढता व सुखा कर पकाता है। शिशु, युवा, बाल, किशोर व तरुण को संस्कार की प्रक्रिया युवा होते होते पक जाती है। राष्ट्र के आधारस्तम्भ, सधे हाथों, उचित सांचे में ढलने से युवा समाज व राष्ट्र का संबल बनेगा: यही हमारा ध्येय है। "अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है। इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे।।" (निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण
मीडिया समूह YDMS 09911111611, 9999777358.
Showing posts with label दिल्ली. Show all posts
Showing posts with label दिल्ली. Show all posts

Tuesday, November 4, 2014

केजरीवाल की गंदी राजनीति: बिन्नी

केजरीवाल की गंदी राजनीति: बिन्नी

विनोद कुमार बिन्नीनई दिल्ली आम आदमी पार्टी से निष्कासित लक्ष्मीनगर के विधायक विनोद कुमार बिन्नी ने आप नेता अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसौदिया पर पर्दे के पीछे से गंदी राजनीति करने और दिल्ली में फिर से आप की सरकार बनवाने के लिए, उन्हें अपने पाले में लाने के करने का आरोप लगाया है। बिन्नी के अनुसार रविवार को मनीष सिसौदिया ने गत 10-12 माह से उनके कार्या, का कामकाज देख रहे, उनके कर्मी शकील को अपने कार्या, पर बुलाया और उससे कहा कि कांग्रेस के 6 लोग हमारे साथ आने को राजी हैं। यदि बिन्नी भी रामबीर शौकीन और शोएब इकबाल को साथ लाकर हमें समर्थन दे दें, तो दिल्ली में फिर से आम आदमी पार्टी की सरकार बन सकती है।
बिन्नी का दावा है कि शकील ने इस मामले में प्रत्युत्तर नहीं दिया और वापस आकर मुझे सब कुछ बताया। बिन्नी का कहना है कि मैंने इस बारे में आप नेताओं से तो कोई बात नहीं की, किन्तु उनके इस कदम से यह अवश्य स्पष्ट हो गया कि पर्दे के पीछे से, वो कैसी राजनीति कर रहे हैं। जबकि मीडिया और जनता के सामने; वो विधानसभा भंग कर, नए सिरे से चुनाव कराने की मांग करते हैं। मनीष सिसौदिया ने बिन्नी के इस दावे को सरासर झूठ और बकवास करार देते हुए कहा कि वह न तो बिन्नी के 'ऑफिस बॉय' को जानते हैं और ना ही उसे अपने कार्या पर बुलाया था। 
देश की श्रेष्ठ प्रतिभा, प्रबंधन पर राजनिति के ग्रहण की परिणति दर्शाने का प्रयास | -तिलक संपादक
हम जो भी कार्य करते हैं, परिवार/काम धंधे के लिए करते हैं |
देश की बिगड चुकी दशा व दिशा की ओर कोई नहीं देखता |
आओ मिलकर कार्य संस्कृति की दिशा व दशा श्रेष्ठ बनायें-तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक 

दिल्ली विधानसभा भंग, चुनाव जनवरी में?

दिल्ली विधानसभा को, राष्ट्रपति ने भंग किया, चुनाव जनवरी में?

डॉ हर्षवर्धन, सतीश उपाध्याय और प्रभात झा (फाइल फोटो)
युदस नई दिल्ली दिल्ली विधानसभा को केन्द्रीय मंत्रिमंडल की अनुशंसा पर भंग करने से, राष्ट्रीय राजधानी में नये चुनाव का मार्ग प्रशस्त हुआ और फरवरी में ‘आम आदमी पार्टी’ सरकार के गिरने के बाद से यहां बनी राजनीतिक अनिश्चितता समाप्त हो गयी। गृह मंत्रालय द्वारा जारी एक अधिसूचना में कहा गया कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ‘‘दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र’’ की विधान सभा को तत्काल प्रभाव से 4 नवम्बर मंगलवार को भंग कर दिया। 
दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग ने भाजपा, ‘आप’ और कांग्रेस के साथ बातचीत कर, सरकार बनाने में इन तीनों दलों के असमर्थता व्यक्त करने की अपनी जानकारी भेजी थी।दिल्ली में अब अधिसूचना जारी होने पर विधानसभा चुनाव 2015 के आरम्भ में हो सकते हैं, जबकि विधानसभा की तीन सीटों के लिए 25 नवम्बर को होने वाले उपचुनाव की प्रक्रिया को चुनाव आयोग ने आज रद्द कर दिया। इस उपचुनाव के लिए नामांकन प्रस्तुत करने का आज अंतिम दिन था। भाजपा के दिल्ली प्रभारी प्रभात झा ने कहा कि पार्टी विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ेगी और दिल्‍ली में अपना मु मं प्रत्याशी घोषित नहीं करेगी। प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने भी कहा कि भाजपा सामूहिक नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी। 
देश की श्रेष्ठ प्रतिभा, प्रबंधन पर राजनिति के ग्रहण की परिणति दर्शाने का प्रयास | -तिलक संपादक
हम जो भी कार्य करते हैं, परिवार/काम धंधे के लिए करते हैं |
देश की बिगड चुकी दशा व दिशा की ओर कोई नहीं देखता |
आओ मिलकर कार्य संस्कृति की दिशा व दशा श्रेष्ठ बनायें-तिलक
"अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है |
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||"- तिलक